जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा पर आतंक का साया, सरकार ने यात्रियों से वापस लौटने को कहा

जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा पर आतंक का साया, सरकार ने यात्रियों से वापस लौटने को कहा

अबतक शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे अमरनाथ यात्रा पर खतरे की आशंका को लेकर सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। अमरनाथ यात्रियों से सुरक्षा को लेकर खतरे के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर से लौटने के लिए कहा गया है। पहले अमरनाथ यात्रा 15 अगस्त तक होनी थी।

सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि पाकिस्तान कश्मीर घाटी में अशांति फैलाने की लगातार कोशिशें कर रहा है। इसके लिए सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की कोशिशें हो रही हैं। 15 कोर कमांडर लेफ़्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा कि इस तरह के इनपुट्स मिले हैं कि आतंकी अमरनाथ यात्रा पर हमले की साज़िश रच रहे हैं।


गौरतलब है कि पिछले दिनों लगातार यह इनपुट मिल रहा था कि अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाया जा सकता है। इसके बाद गृह मंत्रालय की तरफ से एडवाइजरी आई है। इससे पहले खराब मौसम के चलते अमरनाथ यात्रा को 4 अगस्त तक के लिए स्थगित किया जा चुका था। अब विशेष खुफिया इनपुट के आधार पर जम्मू-कश्मीर से अमरनाथ यात्रियों के साथ-साथ पर्यटकों से भी वापस लौटने के लिए कहा गया है।

इससे पहले 31 जुलाई को खबर आई थी कि जम्मू-कश्मीर में अगले कुछ दिनों में भारी बारिश के अनुमान की वजह से अमरनाथ यात्रा चार अगस्त तक निलंबित रहेगी। श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के एक प्रवक्ता ने बताया था कि ‘खराब मौसम, पत्थरों के गिरने और भूस्खलन के मद्देनजर खासतौर से जम्मू क्षेत्र में यात्रा चार अगस्त 2019 तक निलंबित रहेगी।’



29 दिनों में 3.20 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने की अमरनाथ यात्रा

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)