9 करोड़ की सैलरी वाले भारतवंशी बैंकर को कैंटीन से सैंडविच चुराने पर कंपनी ने दी यह सजा

9 करोड़ की सैलरी वाले भारतवंशी बैंकर को कैंटीन से सैंडविच चुराने पर कंपनी ने दी यह सजा

भारतीय मूल के बैंकर पारस शाह को ऑफिस कैंटीन से सैंडविच चुराने के बाद कंपनी ने निलंबित कर दिया है। 31 वर्षीय पारस शाह, सालाना 9 करोड़ से अधिक कमाते हैं, जिन्हें यूरोप, मिडल ईस्ट और अफ्रीका में सिटी ग्रुप के हेड के पद से हटा दिया गया है। फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक ने पारस को कई आरोपों के बाद निलंबित कर दिया, जिनमें से एक ऑफिस की कैंटीन से खाना चुराना भी है। हालांकि, यह पता नहींं चल पाया है कि पारस ने अब तक कैंटीन से कितने सैंडविच चुराए या कथित रूप से खाना चुराने का मामला कब सामने आया था।

यूरोप में सबसे बड़े क्रेडिट ट्रेडर में से एक हैं पारस शाह

पारस शाह यूरोप में सबसे बड़े क्रेडिट ट्रेडर में से एक हैं। कर्मचारियों के रिव्यू की एक वेबसाइट ग्लासडोर के मुताबिक, सामान्य तौर पर यूरोप में एक क्रेडिट ट्रेडर की सैलरी 183,740 पाउंड (लगभग1 करोड़ रुपये) या उससे अधिक होती है लेकिन पारस शाह की सैलरी इससे काफी अधिक थी क्योंकि वह सिटी बैंक में एक उच्च अधिकारी के पद पर कार्यरत थे। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक के एक अधिकारी ने बताया कि अन्य बैंकों में इस पद पर अधिकारियों को 1 मिलियन पाउंड (लगभग 9 करोड़ रुपये) तक सैलरी मिलती है।


पारस शाह के लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार उन्हें सिक्योरिटी, ट्रेडिंग और रिस्क मैनेजमेंट का अनुभव है। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा उत्तरी लंदन के स्कूल से प्राप्त की और साल 2010 में यूनिवर्सिटी ऑफ बाथ से अर्थशास्त्र में ग्रेजुएशन किया।

इसके बाद पारस शाह ने एचएसबीसी बैंक में फिक्स्ड इनकम ट्रेडिंग डिवीजन में सात साल तक काम किया। 2017 में उन्होंने सिटीग्रुप के साथ काम करना प्रारंभ किया था। पारस को सिटीग्रुप ज्वाइन करने के दो महीने बाद ही यूरोप, पश्चिम एशिया और अफ्रीका में हाई-यील्ड क्रेडिट ट्रेनिंग का प्रमुख बना दिया गया था। पारस के कुछ सहयोगियों के मुताबिक वह अपनी नौकरी में बहुत सफल थे। न्यूयॉर्क स्थित सिटीग्रुप मुख्यालय ने इस खबर पर कोई टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)