VIDEO: आर्थिक नीतियों के मोर्चे पर मोदी सरकार पास या फेल, जानें पाटलिपुत्र के व्यापारियों की राय

बिहार: आर्थिक नीतियों के मोर्चे पर मोदी सरकार पास या फेल, जानें पाटलिपुत्र के व्यापारियों की राय

लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें चरण में बिहार की पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर सबकी नज़रें टिकी हैं। 2008 तक पटना में सिर्फ एक लोकसभा सीट हुआ करती थी, लेकिन परिसीमन के बाद यहां दो सीटें हो गईं-एक पाटलीपुत्र और दूसरी सीट पटना साहिब। पाटलीपुत्र में तकरीबन साढ़े 16 लाख मतदाता हैं जिनमें 5 लाख यादव और साढ़े चार लाख भूमिहार हैं। बीजेपी ने यहां से मौजूदा सांसद रामकृपाल यादव को टिकट दिया है तो वहीं उनके सामने मैदान में राजद की मीसा भारती हैं। जानिए यहां चुनाव को लेकर न्यूज्ड से बातचीत में क्या कहा दानापुर इलाके के व्यापारियों और आम लोगों ने..


 

गौरतलब है कि, 2014 लोकसभा चुनाव में रामकृपाल यादव ने टिकट न मिलने पर आरजेडी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। रामकृपाल यादव को 3,83,262 वोट मिले थे जो कुल वोट का 39.16 प्रतिशत था। उन्होंने आरजेडी प्रत्याशी और लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को हराया जिन्हें 3,42,940 (35.04 प्रतिशत) वोट मिले थे। तीसरे स्थान पर जेडीयू के रंजन प्रसाद यादव रहे जिन्हें 97,228 वोट मिले। सीपीआईएमएल प्रत्याशी रामेश्वर प्रसाद को 51,623 वोट मिले थे।

आपको बता दें कि साल 2009 का मुकाबला दिलचस्प था क्योंकि जेडीयू के रंजन प्रसाद यादव ने लालू यादव को हराया था। रंजन प्रसाद को 2,69,298 (42.86 प्रतिशत) मिले थे जबकि लालू यादव को 2,45,757 (39.12 प्रतिशत) वोट मिले।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)