बिहार: पंचायत ने जारी किया मौत का फरमान, लोगों ने बुजुर्ग का गला रेता

UP: सहारनपुर में भाजपा पिछड़ा प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष की गोली मारकर हत्या

एक तरफ भारत वैज्ञानिक तरक्की करते हुए चांद पर जाने की कोशिश कर रहा है वहीं भारतीय समाज का एक बड़ा हिस्सा अभी भी अंधविश्वास जैसी कुरीतियों में फंसा हुआ है। समाज पर इसका असर इतना गहरा है कि लोग इसे मानते हुए किसी की जान लेने से भी पिछे नहीं हटते। कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है बिहार से।

गया जिले के मानपुर ब्लॉक के बुनियादगंज थाने के भेड़िया कलां गांव में अंधविश्वास ने एक व्यक्ति की जान ले ली। आश्चर्य की बात यह कि मौत का फरमान पंचायत ने जारी किया। इसके बाद क्या था, ग्रामीणों ने बिना कुछ सोचे पंचायत के इस फैसले को मानते हुए उसकी गला रेत कर हत्या कर दी और शव को बोरे में बंद कर दिया। घटना मंगलवार देर रात की है। बुधवार की सुबह जब हत्या की खबर फैली, तो पुलिस  ने घटनास्थल पर पहुंच कर विधवा बसंती देवी के मकान से शव को बरामद किया। मृतक की पहचान भेड़िया कला गांव के 60 वर्षीय छट्ठू मांझी के रूप में की गयी है।


पंचायत में हुआ मौत का फैसला

दैनिक अखबार प्रभात खबर के अनुसार गांव में मंगलवार को पंचायत हुई थी। यह पंचायत बसंती देवी द्वारा अपने पति की मौत का आरोप छट्ठू मांझी पर लगाये जाने को लेकर हुई थी। पंचायत में गांव के लोगों ने छट्ठू मांझी को मौत की सजा देने का फैसला लिया। लोगों का फैसला सुनते ही छट्ठू के बेटा-बहू दोनों गांव छोड़ कर मंगलवार की शाम को भाग निकले। गिरफ्तार बसंती देवी ने पुलिस को बताया कि रात में उसके दो बेटों व भाई ने छट्ठू मांझी की पसुली से गला काट दिया। उसके बाद शव को घर के अंदर ही बोरे में बंद कर छिपा दिया।

पुलिस ने हत्या मामले में बसंती देवी उसके बेटे राजकुमार व राहुल को गिरफ्तार किया गया है। बसंती के ससुर व भाई फरार हैं। मृतक के बेटे व बहू पर गांव वालों का ऐसा डर है कि वे पुलिस के सामने भी गांव आने को तैयार नहीं हैं।

बीमारी से हुई थी मौत

गिरफ्तार बसंती मांझी के पति की मौत छह माह पूर्व बीमारी के कारण हो गयी थी। मगर अंधविश्वास में भरोसा रखने वाली बसंती अपने पति की मौत का कारण छट्ठू मांझी को मानने लगी। बसंती गांववालों से कहती थी कि छट्ठू ने ही ओझा-गुनी का चक्कर चला कर उसके पति को मारा है।



बिहार : पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार ‘मोक्ष नगरी’ गया

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)