बिहार: 14 घंटे से ड्यूटी कर रहे रेलवे के गेटमैन ने बयान किया दर्द, कहा ‘हादसा हुआ तो मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं’

बिहार: 14 घंटे से ड्यूटी कर रहे रेलवे के गेटमैन ने बयान किया दर्द, कहा 'हादसा हुआ तो मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं'

रेलवे के एक कर्मचारी का दुख सामने आया है, जो 14 घंटे से ड्यूटी कर रहा है। रेलवे के गेटमैन ने कहा कि कोई भी हादसा होने पर उसकी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

दरअसल, बिहार में टना-गया रूट के नदौल स्टेशन के पास रेलवे फाटक पर तैनात गेटमैन संतोष कुमार ने अपना दर्द बयान किया। ज्यादा काम के प्रेशर और अघिकारियों द्वारा शिकायत न सुने जाने की बात से परेशान गेटमैन ने ट्रेन हादसे की चेतावनी दी और हादसे की स्तिथि में कोई भी जिम्मेदारी लेने से मना कर दिया।


घटना के बारे में अपनी डायरी में गेटमैन संतोष कुमार ने लिखा, ‘मैं सुबह छह बजे से ड्यूटी पर हूं। रात के दस बज गए हैं अभी तक कोई दूसरा कर्मचारी नहीं आया। वरीय अधिकारियों को कई बार बताया पर कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में मेरे अत्यधिक थके होने से कभी भी कोई बड़ा ट्रेन हादसा हो सकता है। इसमें मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।’ इसके अलावा उसने मंडल रेल परिचालन प्रबंधक बीके दास को भी शिकायती पत्र लिखा है।

गेटमैन ने 12 मई को लिखी इस शिकायत में कहा कि ‘उससे सुबह छह बजे से ड्यूटी कराई जा रही है। शाम के छह बजे तक ड्यूटी से नहीं छूटा। रात 8:30 बजे तक जब कोई ड्यूटी पर नहीं आया, तो दानापुर मंडल के सीनियर परिचालन प्रबंधक के मोबाइल पर फोन करता रहा। लेकिन साढ़े दस बजे भी उन्होंने फोन नहीं उठाया।

बता दें कि इन सब के बाद पूरे परिचालन विभाग में हड़कंप मच गया। इस मामले पर कार्यवाही करते हुए सीनियर डीओएम ने रिचालन से जुड़े पदाधिकारियों से सोमवार को पूछताछ शुरू कर दी। सभी का कहना है कि उन्हें इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिली है। अब बताया जा रहा है कि मामले की जांच बुधवार को होगी जिसमें गेटमैन और अन्य पदाधिकारियों से आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाएगी। विश्वास दिलाया गया कि दोषी पर कड़ी कार्यवाही होगी।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)