ग्राहकों से इंटरनेट हैंडलिंग शुल्क वसूलने के लिए BookMyShow, PVR के खिलाफ केस दर्ज

ग्राहकों से इंटरनेट हैंडलिंग शुल्क वसूलने के लिए BookMyShow, PVR के खिलाफ केस दर्ज

आजकल डिजिटल होती दुनिया में सब कुछ आपके मोबाइल फोन या कंप्यूटर में सिमट कर रह गया है। आप घर बैठे कोई भी काम बहुत आसानी से कर सकते है। अब आप मूवी देखने के लिए भी अपने फोन या लेपटॉप के माध्यम से वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन मूवी टिकट बुक कर लेते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये एक्स्ट्रा इंटरनेट हैंडलिंग चार्ज क्या है जो आप हर टिकट के लिए पे करते हैं?

मूवी टिकटिंग एप्लिकेशन और वेबसाइट्स जैसे कि BookMyShow और PVR ग्राहकों को ‘इंटरनेट हैंडलिंग फीस’ के लिए गलत तरीके से चार्ज कर रहे हैं। ‘


भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पास आई एक आरटीआई से पता चला है कि मूवी टिकट बुकिंग सेवाएं प्रदान करने वाले इन प्लेटफार्मों के पास ग्राहकों पर हैंडलिंग फी लगाने का कोई अधिकार नहीं है और वे आरबीआई के मर्चेंट डिस्काउंट रेट (एमडीआर) नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। एमडीआर एक भुगतान गेटवे शुल्क है जो व्यापारी द्वारा बैंक को डेबिट या क्रेडिट कार्ड के माध्यम से ग्राहक भुगतान स्वीकार करने के लिए दिया जाता है।

आरबीआई ने हैदराबाद स्थित फोरम अगेंस्ट करप्शन के अध्यक्ष विजय गोपाल द्वारा दायर एक आरटीआई क्वेरी के जवाब में कहा कि शुल्क का भुगतान व्यापारियों को इंटरनेट आधारित ऑनलाइन लेनदेन के लिए करना पड़ता है। लेकिन जब फिल्म टिकट की बात आती है, तो यह शुल्क अब ऑनलाइन टिकट बुकिंग पोर्टल्स द्वारा उपभोक्ता को दिया जा रहा है, जैसे कि BookMyShow ने लगाया है।

ऐसे समझे आसान भाषा में

यदि मान लें कि BookMyShow पोर्टल के माध्यम से बुक की गई फिल्म की टिकट की कीमत 157.82 रुपये है, जबकि हैदराबाद के एक पीवीआर मॉल में बॉक्स ऑफिस से बुक करने पर उसी फिल्म के टिकट की कीमत सिर्फ 138 रुपये है। यानि पोर्टल इंटरनेट चार्जिंग फी के रूप में 19.82 रुपये लेता है। जिसमें बुकिंग शुल्क 16.80 रुपये और 3.02 रुपये इंटिग्रेटेड जीएसटी (IGST) शामिल है। हम अक्सर लंबी लाइनों से बचने के लिए इस लिए इस छोटे से चार्ज को नज़र अंदाज कर देते हैं, हालांकि, इस 16.80 रुपये का भुगतान BookMyShow द्वारा बैंक को किया जाना है, न कि ग्राहक द्वारा।


BookMyShow अपने पोर्टल पर दिखाए गए सभी सिनेमाघरों को इंटरनेट से हैंडलिंग फी के रूप में ग्राहक पर भुगतान गेटवे शुल्क लगाने का विकल्प देता ह । जबकि वास्तव में, थिएटरों को प्रत्येक डेबिट / क्रेडिट लेनदेन के लिए बैंक को उस राशि को पेमेंट करना होता है। फोरम अगेंस्ट करप्शन ने BookMyShow और PVR के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के खिलाफ हैदराबाद में एक उपभोक्ता अदालत का रुख किया। मामले की सुनवाई 23 मार्च को होने की उम्मीद है। जब हम शॉपिंग मॉल जाते हैं, तो ये भुगतान गेटवे शुल्क हमारे बिलों में शामिल नहीं होते हैं। यदि किसी उत्पाद की कीमत 100 रुपये है, तो आप 100 रुपये का भुगतान करते हैं। लेकिन यहां, पीवीआर और अन्य मूवी थिएटर बैंकों को अपने रिवेन्यू में कटौती नहीं करने देना चाहते हैं।

अन्य सेवाओं देने के कारण ग्राहकों से हैंडलिंग शुल्क लगाना बेतुका तर्क

केस दर्ज कराने वाले एक्टिविस्ट विजय गोपाल इसे निराधार बताते हुए कहते हैं कि ये ऐसी फर्मों द्वारा दिया गया एक बेतुका तर्क था कि अन्य सेवाएं देने के कारण ग्राहकों से हैंडलिंग शुल्क लिया जा सकता है। क्या टिकट की लागत में सेवाओं की लागत शामिल नहीं है?

ग्राहकों को प्रीमियम सेवाएं देने के लिए हैंडलिंग फी जरूरी

इन्फ्लूइट वर्ल्डवाइड के सीईओ हरीश आनंद थिलकन ने भारत में अन्य लोगों के बीच पीवीआर सिनेमा, आईनॉक्स, सिनेपोलिस के टिकटिंग ऐप और वैश्विक स्तर पर 26 से अधिक सिनेमा श्रृंखलाओं का निर्माण किया है।  आनंद के अनुसार ग्राहकों को प्रीमियम सेवाएं देने के लिए ये हैंडलिंग फी जरूरी है। उन्होंने कहा कि ये विशेष शुल्क सिर्फ टीडीआरएस से अधिक है। यह लागत वास्तव में बहुत बड़ी बुनियादी सुविधाओं को शामिल करती है, सिनेमाघरों को कुशल ऑनलाइन टिकटिंग इंजन चलाने के लिए खर्च करने की आवश्यकता होती है। इसलिए जब भी ये खिलाड़ी आपको ऐप या वेबसाइट के माध्यम से लॉग ऑन करने की अनुमति दें। इसे चालू रखने में बहुत पैसा लगता है। इसे जारी रखने के लिए बुनियादी ढांचे की लागत बड़ी है।

 अगर आप शिकायत करना चाहते है तो यहां कर सकते हैं

जो लोग इस तरह के आरबीआई विनियमित संस्थाओं के खिलाफ ग्राहक सेवा में कमियों की शिकायत करना चाहते हैं, वे कर सकते हैं। एक व्यापारी द्वारा उल्लंघन की रिपोर्ट करने के लिए, किसी को उस बैंक से संपर्क करना होगा जो व्यापारी द्वारा लेनदेन करने के लिए उपयोग किया गया था, लेकिन ज्यादातर मामलों में, भुगतान करने वाले ग्राहक को अक्सर जानकारी उपलब्ध नहीं कराई जाती है। यदि बैंक 30 दिनों के भीतर कोई कार्रवाई नहीं करता है या यदि बैंक का जवाब संतोषजनक नहीं है, तो उपभोक्ता बैंकिंग लोकपाल के कार्यालय से संपर्क कर सकता है। इस दौरान, ये फर्में उपभोक्ता पर अपनी इंटरनेट हैंडलिंग फीस लगाती रह सकती हैं क्योंकि RBI के पास MDR शुल्कों के नियमों का उल्लंघन करने वाले किसी व्यापारी को दंडित करने के लिए कोई नियम नहीं हैं।

इस मामले को न्यायाधीन बताते हुए BookMyShow ने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है।


Consumer Forum: कैसे काम करता है उपभोक्ता न्यायालय? ठगे गए ग्राहक ऐसे करें शिकायत

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)