CBSE 10वीं और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं के लिए डेट शीट जारी, 1 से 15 जुलाई तक होंगे पेपर

UP Polytechnic entrance exam postponed

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने कक्षा 12वीं की परीक्षा के लिए डेट शीट जारी कर दी है। इस परीक्षा को कोरोना लॉकडाउन के कारण बीच में हीस्थगित करना पड़ा था। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोमवार को परीक्षा की तारीखों की जानकारी दी । उन्होंने ट्विटर पर परीक्षा की डेट शीट शेयर की है। 12वीं की परीक्षाएं एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच होंगी। इसके साथ ही नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में एक जुलाई से 15 जुलाई तक सीबीएसई 10वीं की परीक्षा होगी।सीबीएसई ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर भी 10वीं व 12वीं की पूरी डेटशीट अपलोड कर दी है।

CBSE


बता दें कि कोरोना लॉकडाउन के कारण सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षाएं मार्च में ही रोक दी थीं। इसके बाद सीबीएसई सचिव अनुराग त्रिपाठी ने दूसरे लॉकडाउन के वक्त घोषणा कर दी थी कि दसवीं बोर्ड की परीक्षाएं नहीं आयोजित होंगी। सिर्फ नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के छात्रों के लिए छूटी हुई परीक्षा आयोजि‍त की जाएगी।

बोर्ड ने बताया था कि 12वीं बोर्ड की बची हुई परीक्षाओं में से 29 मुख्य विषयों की परीक्षाएं आयोजित होंगी। ये मुख्य विषय वो विषय हैं जिनके जरिये विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर पर एडमिशन मिलना सुनिश्च‍ित होता है। कई विश्वविद्यालय मेरिट के आधार एडमिशन लेते हैं जहां इन विषयों के नंबर अन‍िवार्य तौर पर जुड़ते हैं।

IMG_20200518_132603


शिक्षा नंत्री रमेश पोखरियाल ने ट्वीट कर कहा, ‘प्रिय विद्याथिर्यों, आप सभी से #CBSE की 12वीं की बची हुई परीक्षाओं की डेट शीट साझा कर रहा हूं। मैं आप सभी को आगामी परीक्षाओं के लिए हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।’

सीबीएसई ने लंबित बोर्ड परीक्षाओं के लिए डेट शीट के साथ आवश्यक दिशा-निर्देश भी जारी किया है। बोर्ड ने कहा कि छात्रों को परीक्षा केंद्र पर मास्क पहनकर, अपना सैनेटाइजर लेकर आना होगा। परिजन को यह सुनिश्चित करने कहा गया है कि उनका बच्चा बीमार न हो। परीक्षा के दौरना अभ्यर्थियों को शारीरिक दूरी के नियमों का भी पालन करना होगा।

बता दें, जो परीक्षाएं हो चुकी हैं, उनकी उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन सीबीएसई ने शुरू कर दिया है। इस प्रक्रिया को पूरे होने में 50 दिन का समय लग सकता है। डॉ निशंक ने बताया था कि 29 विषयों की परीक्षा का होना बाकी है, लेकिन जो 173 विषयों की परीक्षा हो चुकी थी, जिसकी 1.5 करोड़ से भी अधिक उत्तरपुस्तिकाएं हैं, उनका मूल्याकांन करने के लिए गृह मंत्रालय की ओर से इजाज़त मिल गई है।

गौरतलब है कि सीबीएसई ने 3000 स्कूलों को मूल्यांकन केंद्र के रूप में चिह्नित कर दिया है। अब 3000 मूल्याकांन केंद्र से ये उत्तर पुस्तिकाएं अध्यापकों के घरों तक पहुंचाई जा रही है, जिसके बाद अध्यापक मूल्याकांन की प्रकिया शुरू कर रहे हैं।


बिहार बोर्ड 10वीं परीक्षा के कॉपियों की जांच लगभग पूरी, जल्द जारी होंगे मैट्रिक के रिजल्ट

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)