दंगल गर्ल फातिमा सना शेख ने #MeToo को लेकर कही ये बात

दंगल गर्ल फातिमा सना शेख ने MeToo पर कही ये बात

साल 2018 बॉलीवुड में एक बड़ा बदलाव लेकर आया। भारत में #MeToo आंदोलन अस्तित्व में आया और बॉलीवुड में कई नामी चेहरों पर महिलाओं को प्रताड़ित करने का आरोप लगा। महिलाओं ने अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न के बारे में खुल कर बोलते हुए अपने अंदर के डर को निकाल फेंका।

यौन उत्पीड़न की घटना दिमाग और चरित्र को प्रभावित कर सकती है

मुंबई मिरर के साथ एक इंटरव्यू में दंगल गर्ल फातिमा सना शेख ने यौन उत्पीड़न के बारे में खुल के बात की और बताया कि कैसे ये घटना किसी के दिमाग और चरित्र को प्रभावित कर सकती है। युवा अभिनेत्री से जब पूछा गया कि क्या उन्हें किसी इसका सामना करना पड़ा है, तो उन्होंने कहा, “मैं अपने जीवन के उस पक्ष को सामने नहीं लाना चाहती … मैं इसके साथ डील कर रही हूं, मैं इस बारे में उन लोगों से बात करती हूं जो मेरे करीबी हैं। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि मेरा साझा ना करना जज नहीं किया जाएगा…जैसे मैं उन लोगों को जज नहीं करती जो अपनी डरावनी कहानियां साझा करना चाहते हैं।


मीटू ने यौन उत्पीड़न के शिकार लोगों के लिए एक मंच प्रदान किया है

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान की अभिनेत्री ने मीटू आंदोलन की सराहना करते हुए कहा कि इस आंदोलन ने यौन उत्पीड़न के शिकार लोगों के लिए एक मंच प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि अब प्रताडित करने वालों को सार्वजनिक रूप से शर्मिंदा होने और इंडस्ट्री से बहिस्कृत होने डर है। इतने सालों से हमने इस हद तक इस उत्पीड़न को सामान्य मान लिया था कि महिलाएँ इसे ब सामान्य मानने लगी थी”

सेटबैक खेल का पार्ट और पार्सल है

फातिमा ‘ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान’  के फ्लाप होने से काफी परेशान थी। लेकिन उनेहोंने कहा कि उन्हें अपनी पसंद पर पछतावा नहीं है और सेटबैक खेल का पार्ट और पार्सल है।

हमें पूरी उम्मीद है कि फातिमा जब भी तैयार होंगी अपनी कहानी के साथ आएंगी। हम बस इतना कर सकते हैं कि उसका समर्थन करें और उनकी तरफ से खड़े हों।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)