Delhi: 7 दिन लगातार स्कूल नहीं गया छात्र, तो कॉल कर के पूछा जाएगा वजह

  • Follow Newsd Hindi On  
Uttar Pradesh में 23 नवंबर से फिर से खुलेंगे विश्वविद्यालय और कॉलेज

छात्र और अभिभावकों को एसएमएस और आईवीआरएस (Interactive Voice Response System) कॉल के जरिए स्कूल से लंबे समय तक अऩुपस्थित रहने पर सूचित किया जाएगा। दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (DCPCR) इसके लिए अर्ली वार्निंग सिस्टम तैयार कर रहा है। अगले शैक्षणिक सत्र 2021-22 में इसको लॉन्च कर दिया जाएगा।

इस नए सिस्सटम के तहत अगर कोई छात्र सात दिन लगातार अनुपस्थित रहता है या उस महीने में उपस्थिति 50 फीसदी से कम रहती है तो उस छात्र से संपर्क कर उनकी परेशानियों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। छात्र के घर जाकर स्कूल प्रबंधन समिति सदस्य, शिक्षक, जिला बाल संरक्षण अधिकारी, स्थानीय स्वयं सेवी संस्था के अधिकारी स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेंगे कि आखिर छात्र किन कारणों से स्कूल नहीं आ रहा है।


डीसीपीसीआर अध्यक्ष अनुराग कुंडू ने बताया है कि, जब छात्र लंबे से स्कूल में नहीं होता है तो वह गंभीर स्थिति हो जाती है, जिसके कई कारण होते हैं। इसमें छात्र के घर में कोई अनहोनी तो नहीं हुई, आर्थिक मजबूरी तो नहीं, घरेलू हिंसा का शिकार, स्कूल में छात्र के साथ कोई घटना, जल्दी शादी होना, बाल मजदूरी सहित कई दूसरे कारण होते हैं। उन्हीं दिक्कतों का जानने के लिए छात्र के घर तक पहुंचेंगे, जिससे उसकी परेशानी को जानकर उसे दूर करने की कोशिश करेंगे।

कुंडू ने आगे कहा कि इस दिशा में कदम बढ़ाने वाला दिल्ली पहला राज्य होगा। अगले वर्ष अप्रैल 2021 तक इस सिस्टम के लॉन्च होने की संभावना है। आईवीआरएस कॉल पर छात्र के पास अपनी समस्या बताने के कई विकल्प होंगी। बच्चे से कॉल के माध्यम से पूछा जाएगा कि उसे क्या परेशानी है। फिर उस समस्या से जुड़ा संबंधित बटन दबाने पर उसकी परेशानी प्राप्त हो जाएगी।

डीसीपीसीआर के अनुसार जब छात्रों की अऩुपस्थिति से जुड़े कारणों का एक डैशबोर्ड तैयार होगा। उससे शिक्षा विभाग के जिला और राज्य अधिकारियों को बच्चों की उपस्थिति सुधारने में मदद मिलेगी। साथ ही प्राथमिकताओं के बारे में भी पता चल सकेगा।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)