दिल्ली: रामलीला में परशुराम बने मनोज तिवारी ने किया NRC का जिक्र, लक्ष्मण को कहा ‘आतंकवादी’

दिल्ली: रामलीला में परशुराम बने मनोज तिवारी ने किया NRC का जिक्र, लक्ष्मण को कहा 'आतंकवादी'

असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) लागू होने के बाद बीजेपी इसे पूरे देश में लागू करने की बात कर रही है। दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) भी लगातार दिल्ली में एनआरसी (NRC in Delhi) लागू करने को लेकर बयान दे रहे हैं। अब उन्होंने रामलीला के जरिये भी दिल्ली में एनआरसी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की है। दिल्ली के मॉडल टाउन की रामलीला में मंगलवार को मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) परशुराम के किरदार में नजर आए। इस दौरान तिवारी ने मंच से राजनीतिक संवादों की भी जमकर बौछार की।

सीता स्वयंवर दृश्य में भगवान शिव का धनुष तोड़े जाने से नाराज परशुराम बने मनोज तिवारी की जब मंच पर एंट्री होती है तब वो गुरु विश्वामित्र से पूछते हैं, ‘ये सब कहां से आए हैं, ये कोई विदेशी घुसपैठिए हैं या तुमने बुलाया है?’ परशुराम का किरदार निभा रहे मनोज तिवारी यहीं नहीं रुके। रामलीला मंचन के दौरान जब परशुराम-लक्ष्मण का संवाद हुआ तब मनोज तिवारी ने लक्ष्मण को आतंकी कहा। उन्होंने कहा, ‘मेरी कुल्हाड़ी ने खून की नदियां बहा दीं। आर्यों की इस भूमि में कई आतंकवादियों को कब्रिस्तान भेजा गया है।’


दिल्ली में छात्रों को मिलेगी खेल में डिग्री, अरविंद केजरीवाल ने किया स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी खोलने का ऐलान

बता दें कि इन दिनों एनआरसी मुद्दे और विदेशी घुसपैठियों के लेकर देश की राजनीति गरमाई है। अभी कुछ दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एनआरसी के मुद्दे पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को आड़े हाथों लिया था। केजरीवाल ने कहा कि अगर दिल्ली में NRC लागू हुई तो मनोज तिवारी को ही दिल्ली छोड़नी पड़ेगी।

इसके अलावा हाल ही में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में इसे लेकर बयान दिया था कि एनआरसी की वजह से हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा। उन्होंने कहा था कि हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध और ईसाई शरणार्थियों को सरकार भारत छोड़ने के लिए मजबूर नहीं करेगी।


बंगाल में NRC पर बोले अमित शाह- हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध और ईसाई शरणार्थियों को देश से जाने के लिए नहीं कहेंगे

दिल्ली में NRC पर बोले अरविंद केजरीवाल बोले- लागू हुआ तो सबसे पहले मनोज तिवारी को जाना होगा


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)