दिल्ली हिंसा: अकाली दल सांसद ने कमिश्नर से की शिकायत, फंसे थे दोस्त, पुलिस को कॉल करने पर भी नहीं मिली मदद

दिल्ली हिंसा: अकाली दल सांसद ने कमिश्नर से की शिकायत, फंसे थे दोस्त, पुलिस को कॉल करने पर भी नहीं मिली मदद

कई दिनों से भयानक हिंसा की चपेट में रहे पूर्वोत्तर दिल्ली में हालात अब सामान्य हो रहे हैं। इस हिंसा में बड़े पैमाने पर जानमाल का नुकसान हुआ है। ताजा आंकड़े के मुताबिक अबतक 35 लोगों की जान गई है। वहीं हिंसा प्रभावित इलाके के लोग पुलिस पर समय रहते मदद नहीं करने की शिकायत कर रहे हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के बेटे और शिरोमणि अकाली दल के राज्यसभा सदस्य नरेश गुजराल (Naresh Gujral) ने दिल्ली पुलिस पर हिंसा में फंसे लोगों की मदद नहीं करने का आरोप लगाया है। शिअद सांसद ने हिंसा प्रभावित इलाके में एक परिवार को बचाने के लिए दिल्ली पुलिस को कॉल किया था, मगर दिल्ली पुलिस ने मदद नहीं की।



नरेश गुजराल ने चिट्ठी में लिखा कि मंगलवार रात लगभग 11:30 बजे मुझे मदद की गुहार लगाते अपने एक परिचित का कॉल आया। वह 15 अन्य मुस्लिम लोगों के साथ गोंडा चौक, मौजपुर में एक घर में फंसा हुआ था और बाहर मौजूद भीड़ घर को तोड़ने की कोशिश कर रही थी।

दिल्ली हिंसा पर हरियाणा के मंत्री रणजीत चौटाला का संवेदनहीन बयान, कहा- दंगे तो होते रहते हैं, इट्स पार्ट ऑफ लाइफ

मैंने तुरंत ही 100 नंबर पर कॉल किया और पुलिस अधिकारी को मदद की अपील लगाने वाले शख्स का नंबर दिया। मैंने एक सांसद के तौर पर अपना परिचय देते हुए मौके की गंभीरता को बताया। मुझे 11:43 बजे दिल्ली पुलिस की ओर से शिकायत दर्ज होने की सूचना मिली।

मगर मुझे निराशा हुई और मेरी शिकायत पर उन सभी 16 लोगों को दिल्ली पुलिस की ओर से कोई सहायत नहीं मिली। अपने पड़ोसी हिंदुओं के सहयोग से उन्हें किसी तरह बचाया जा सका। एक सांसद द्वारा निजी तौर पर शिकायत करने पर यह हालत है, यह आश्चर्यजनक नहीं है कि दिल्ली का एक बड़ा हिस्सा जल रहा है और पुलिस का रवैया असहयोगात्मक है।


दिल्ली: कड़वे अनुभव के साथ विदा होंगे कमिश्नर अमूल्य पटनायक, विवादित कार्यकाल और लचर नेतृत्व के लिए किए जाएंगे याद

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)