दिल्ली : थानों पर आतंकी हमले की खबर से हड़कंप, मुख्य द्वारों पर डाले गए ताले

नई दिल्ली, 18 अक्टूबर (आईएएनएस)| दिल्ली के थानों और पुलिस आवासों (पुलिस कॉलोनियों) को आतंकवादी निशाना बना सकते हैं। खुफिया विभाग की इस सूचना ने दिल्ली पुलिस में हड़कंप मचा दिया है। यह सूचना दो-तीन दिन पहले ही दिल्ली पुलिस तक पहुंची है। इस खबर के बाद अलर्ट हुई दिल्ली पुलिस ने सभी थानों और पुलिस कॉलोनियों की सुरक्षा एहतियातन बढ़ा दी है। साथ ही थानों के मुख्य द्वार बंद कर वहां मौजूद संतरी को छोटे गेट पर बेहद सतर्क रहने को कहा गया है।

इस बारे में आईएएनएस ने दिल्ली पुलिस के मुख्य प्रवक्ता और मध्य दिल्ली के जिला पुलिस उपायुक्त मंदीप सिंह रंधावा से जानकारी चाही, मगर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। जबकि अतिरिक्त पुलिस प्रवक्ता, सहायक पुलिस आयुक्त अनिल मित्तल ने कहा, “मेरे पास फिलहाल ऐसी कोई खबर नहीं है।”


यदि ऐसी कोई खबर नहीं है तो फिर थानों के मुख्य द्वारों को एसएचओ ने 24 घंटे बंद रखने के नोटिस क्यों लगाए हैं? उन्होंने कहा, “इस बारे में मैं महकमे के मुख्य प्रवक्ता मंदीप सिंह रंधावा से पूछता हूं?”

सूत्रों के मुताबिक, इस महत्वपूर्ण खुफिया सूचना के बाद दिल्ली पुलिस मुख्यालय ने सभी थानों को बेहद सजग रहने के निर्देश दे दिए हैं। साथ ही जिन थाना क्षेत्रों में पुलिस आवास और पुलिस कॉलोनियां हैं, थानों से उन आवासीय इलाकों में भी सुरक्षा इंतजाम पहले से ज्यादा मजबूत करने को कहा है।

सूत्र के मुताबिक, थानों की सुरक्षा में तैनात हथियारबंद संतरी (सिपाही) को विशेष निर्देश दिए गए हैं। एहतियातन दिए गए इन सुरक्षा निर्देशों में थानों की पहरेदारी में लगे संतरी-ड्यूटी वाले स्टाफ को कहा गया है कि वे ‘मुख्य द्वार जहां तक संभव हो सके बंद रखें। थाने के छोटे द्वार को ही ज्यादातर इस्तेमाल में लाए। साथ ही थाने में आने जाने वाले हर वाहन पर खास नजर रखें।’


सुरक्षा निर्देशों के मुताबिक, “आत्मघाती हमलों के इंतजार में बैठी विध्वंसकारी ताकतें सबसे पहले थाने-पुलिस कॉलोनियों के मुख्य द्वार पर ही पहुंचेंगी। ऐसे में मुख्य द्वार पर ही निगाहें सतर्क रखना जरूरी है।” सुरक्षा निर्देशों के जरिए अपेक्षा की गई है कि “थाने का संतरी दोपहिया और चार पहिया वाहनों पर पैनी नजर रखें। जहां तक हो सके ऐसे वाहनों को पहले तो थाने में प्रवेश ही न दिया जाए। अगर ऐसे वाहन थानों के अंदर प्रवेश चाहते भी हैं तो संतरी, वाहनों की बेहद सतर्कता से पहले जांच करें। ऐसा न हो कि जांच के दौरान ही विध्वंसकारी ताकतें लापरवाही का नाजायज फायदा उठा लें।”

इस खास खुफिया सूचना के बाद दिल्ली के अधिकांश थाना-प्रभारियों ने तो बाकायदा थानों के मुख्य द्वार पर चेतावनी लिखित में चस्पा कर दी है। चेतावनी में साफ-साफ लिखा है कि “थाने का मुख्य द्वार दिन-रात बंद रहेगा। आना-जाना सिर्फ थाने के छोटे दरवाजे से ही किया जाए।”

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 200 से ज्यादा पुलिस थाने हैं। इन थानों में सबसे ज्यादा संवेदनशील थाने नई दिल्ली, मध्य दिल्ली, दक्षिण दिल्ली, उत्तरी दिल्ली के समझे जाते हैं। नई दिल्ली जिले में संसद मार्ग, मंदिर मार्ग, चाणक्यपुरी, तुगलक रोड, कनाट प्लेस आदि थाने हमेशा ही विध्वंसकारी ताकतों के निशाने पर रहते हैं। मध्य दिल्ली जिले में चांदनी महल, जामा मसजिद, आईपी स्टेट, उत्तरी दिल्ली का कोतवाली थाना, सिविल लाइंस थाना और उनके इलाके हमेशा से ही संवेदनशील रहे हैं।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like