दोपहर से रात तक दिल्ली यूपी बार्डर पर लगी रही भीड़, रेंगता रहा ट्रैफिक

दोपहर से रात तक दिल्ली यूपी बार्डर पर लगी रही भीड़, रेंगता रहा ट्रैफिक

नई दिल्ली । देश के दूर दराज के इलाकों से स्पेशल ट्रेन के जरिये दिल्ली में पहुंचे सैकड़ों लोग शनिवार को दिल्ली यूपी सीमा पर भटकते रहे। वजह थी दिल्ली पुलिस इन्हें गाजियाबाद सीमा पर डीटीसी बसों में छोड़ने पहुंच गयी, जबकि गाजियाबाद पुलिस प्रशासन दिल्ली पुलिस के पास मौजूद सैकड़ों लोगों को अवैध तरीके से आया हुआ बताकर उन्हें सीमा में प्रवेश कराने की अनुमति नहीं दे रही थी। अंतत: भीड़ का रुप लेते जा रहे लोगों को गाजियाबाद पुलिस ने वापस दिल्ली पुलिस के ही हवाले करके लौटा दिया।

यह तमाशा रुक रुककर शनिवार को दोपहर बाद से ही शुरू हो गया था। शाम ढले जब दिल्ली से गाजियाबाद आने वाले वाहन गाजीपुर बार्डर पर पहुंचने लगे, तो भीड़ का सा आलम हो गया। देखने से ऐसा लगने लगा मानों जाम लग गया हो। हालांकि यह सब अचानक इकट्ठी हुई भीड़ के चलते हुए हुआ। यह वही भीड़ थी जो विशेष ट्रेनों से बाहरी राज्यों से दिल्ली आयी थी। दिल्ली पुलिस ने इन सबको डीटीसी बसों में भरकर गाजीपुर, कौशांबी (आनंद विहार) दिल्ली-यूपी सीमा पर छोड़ दिया।


इस भीड़ को गाजियाबाद पुलिस ने बिना वैध कागजात के प्रवेश कराने से इंकार कर दिया। इस बात को लेकर दोनो राज्यों को की सीमा पुलिस आपस में खुद भी जूझती देखी गयी। इस बाबत शनिवार देर रात पूछे जाने पर पूर्वी दिल्ली जिला डीसीपी जसमीत सिंह ने कहा, “100-200 लोगों की भीड़ इकट्ठी हुई थी। 40 हजार लोगों की भीड़ सीमा पर लगने की बात झूठी है, जो लोग इकट्ठे हुए उन्हें भी बाद में अन्यत्र भेज कर इलाके का ट्रैफिक स्मूथ करवा दिया गया।”

दूसरी ओर गाजियाबाद जिले के पुलिस अधीक्षक (नगर) मनीष मिश्रा ने कहा, “हम अपने इलाके में किसी भी वैध को आने से रोक नहीं रहे हैं और अवैध रुप से हम किसी को सीमा में घुसने नहीं देंगे, जो भीड़ दिल्ली से हमारी ओर आना चाह रही थी, वो थी तो संख्या में 100-200 की ही, मगर उनमें से अधिकांश के पास वैध कागजात ही नहीं थे। ऐसे में हम जिले की सीमा में भला कैसे किसी को प्रवेश ले लेने देते? हमने दिल्ली पुलिस को जब हकीकत समझाई, तो दिल्ली पुलिस खुद ही भीड़ को वापिस अपनी बसों में लेकर चली गयी।”

–आईएएनएस


(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)