चांदनी चौक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, दिल्ली: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

चांदनी चौक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, दिल्ली: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की सात लोकसभा सीटों में से एक, चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र (निर्वाचन क्षेत्र संख्या 1) एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के डॉ. हर्षवर्धन ने आम आदमी पार्टी के आशुतोष को शिकस्त दी थी। कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल तीसरे स्थान पर रहे थे। कांग्रेस से गठबंधन की संभावनाओं के बीच आम आदमी पार्टी (AAP) ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए यहां से पंकज गुप्ता के नाम की घोषणा कर दी है। बीजेपी और कांग्रेस के उम्मीदवारों के नाम आने बाकी हैं।

चांदनी चौक लोकसभा सीट पर छठे चरण में 12 मई को वोट डाले जाएंगे।


चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र का इतिहास

राजधानी का चांदनी चौक पुरानी दिल्ली के नाम से भी जाना जाता है। चांदनी चौक दिल्ली की दूसरी सबसे पुरानी लोकसभा सीट है। मुगलकालीन धरोहरों को अपने में समेटे चांदनी चौक संसदीय क्षेत्र से जीत किसी भी राजनीतिक पार्टी के लिए बेहद शुभ है। सत्ता का प्रतीक लाल किला इसी क्षेत्र में स्थित है।

साल 1957 में पहली बार यह अस्तित्व में आई। इससे पहले सिर्फ नई दिल्ली सीट पर 1952 में चुनाव हुआ था। बाद में हुए परिसीमन का असर चांदनी चौक और नई दिल्ली सीट पर नहीं पड़ा है। यह निर्वाचन क्षेत्र बहुत घनी आबादी वाला है। इसमें लाहोरी दरवाजा से लेकर चौक कोतवाली तक चांदनी चौक को कवर करते हुए फतेहपुरी मस्जिद में तक का इलाका आता है।

चांदनी चौक पर 1957 से लेकर 2014 तक कुल 15 लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। इनमें से कांग्रेस (आईएनसी) अब तक नौ बार जीत चुकी है वहीं बीजेपी चार बार यहां से जीत दर्ज कर चुकी है। 1957 के पहले आम चुनाव में कांग्रेस के राधा रमण ने जीत दर्ज की थी। उसके बाद 1962 में कांग्रेस के ही शाम नाथ ने 1967 के आम चुनावों में बीजेएस के आर गोपाल बाजी पलटते हुए यहां से जीतने में कामयाब रहे। 1971 में सुभद्रा जोशी ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़कर फिर से इस सीट को कांग्रेस की झोली में डाल दिया।


1977 में फिर बाजी पलटी और ये सीट बीएलडी के कब्जे में चली गई। हालांकि 1980, 1984 और 1989 में कांग्रेस इस सीट पर काबिज रही। 1991 में बीजेपी से ताराचंद खंडेलवाल यहां से जीतकर संसद पहुंचे। 1996 में कांग्रेस के जय प्रकाश अग्रवाल यहां से सांसद बने। इसके बाद 1998 और 1999 में बीजेपी के विजय गोयल को जनता ने चुनकर संसद भेजा। 2004 और 2009 में कपिल सिब्बल के हक में फैसला गया।  इसके बाद 2014 के लोक सभा चुनाव में जीत दर्ज कराने के बाद वर्तमान में डॉ. हर्षवर्धन यहां से सांसद हैं।

साल 2014 लोकसभा चुनाव में चांदनी चौक लोकसभा सीट पर बीजेपी जीती थी। इस सीट पर बीजेपी के डॉ. हर्षवर्धन, आम आदमी पार्टी के आशुतोष और कांग्रेस के दिग्गज कपिल सिब्बल ने चुनाव लड़ा था। साल 2014 में इस सीट पर कुल 69 फीसदी मतदान हुआ था। डॉ. हर्षवर्धन ने 437938 वोटों के साथ चुनाव जीता था। तीसरे स्थान पर कांग्रेस के कपिल सिब्बल ने कुल 176206 वोट हासिल किए थे।

चांदनी चौक संसदीय क्षेत्र का समीकरण

चांदनी चौक संसदीय क्षेत्र में दस विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं- आदर्श नगर, शालीमार बाग, शकूर बस्ती, त्रिनगर, वजीरपुर, मॉडल टाउन, सदर बाजार, चांदनी चौक, मटिया महल, बल्लीमरान। साल 2014 में इस सीट पर कुल 1,447,228 मतदाता थे, जिनमें से 791,317 पुरुष और 655,911 महिलाएं थीं। इस सीट पर कुल 69 फीसदी मतदान हुआ था। कुल 550,825 पुरुषों ने और 431,038 महिलाओं ने वोट किया।

मिश्रित आबादी के चलते यहां के चुनावी समीकरण दिल्ली से अलग हैं। यहां मुस्लिम और वैश्य मतदाता बड़ी संख्या में हैं। अपनी सीट के साथ-साथ यह लोग देश के दूसरे हिस्सों पर भी असर डालते हैं। दिल्ली का अधिकांश कारोबार भी इस इलाके से होता है। इस वजह से बड़ी संख्या में कामगारों को भी यह सीट प्रभावित करती है।

निवर्तमान सांसद: डॉ. हर्षवर्धन

लोकसभा चुनाव 2014

डॉ. हर्षवर्धन, भाजपा – 4,37,938
आशुतोष, आप – 3,01,618
कपिल सिब्बल, कांग्रेस – 1,76,206

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • पंकज गुप्ता, आम आदमी पार्टी
  • ____ बीजेपी
  • ____ कांग्रेस

छठे चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 10 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 16 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 23 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 24 अप्रैल
मतदान की तारीख 12 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: छठे चरण में 12 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)