गाजियाबाद लोकसभा सीट: त्रिकोणीय मुकाबले के आसार, 5 लाख से अधिक वोटों से जीते थे जनरल वीके सिंह

गाजियाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, उत्तर प्रदेश: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में 11 अप्रैल को देश भर की अलग-अलग सीटों पर मतदान समाप्त हुए। पहले चरण में उत्तर प्रदेश की 8 लोकसभा सीटों पर वोट डाले गए। इन्हीं 8 सीटों में से एक गाजियाबाद लोकसभा सीट पर भी मतदान सम्पन्न हुआ।

उत्तर प्रदेश के प्रथम चरण के चुनाव के दौरान 63.69 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। गाजियाबाद संसदीय क्षेत्र में 57.06 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं 2014 में मतदान प्रतिशत 56.98 था।


देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एक बार फिर से नया सांसद चुनने के लिए तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार जनरल वीके सिंह ने गाजियाबाद से जीत दर्ज की थी। गाजियाबाद लोकसभा सीट का चुनाव त्रिकोणीय होने जा रहा है। यहां से बीजेपी ने फिर मौजूदा सांसद वीके सिंह को टिकट दिया है। जबकि सपा-बसपा गठबंधन ने नामांकन से ठीक पहले उम्मीदवार बदल दिया। पहले गठबंधन ने सुरेंद्र कुमार मुन्नी को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन बाद में सुरेश बंसल को टिकट दिया गया। वहीं, कांग्रेस ने ब्राह्मण उम्मीदवार के तौर पर डॉली शर्मा को उतारा है।

गेटवे ऑफ यूपी यानि यूपी का दरवाजा कहा जाने वाला गाजियाबाद 133.3 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। गाजियाबाद का इतिहास 2500 ईसा पूर्व का है। इसे मोहम्मद शाह के मंत्री वजीर गाजी-उद-दीन ने स्थापित किया था। इनके नाम पर ही इस शहर को ‘गाजियाबाद’ नाम मिला। 1857 विद्रोह के दौरान ब्रिटिश सेना और भारतीय विद्रोहियों के बीच भिड़ंत यहीं हुई थी। गाजियाबाद का गठन मेरठ से अलग होकर 14 नवंबर 1976 को हुआ था। दिल्ली मेट्रो नेटवर्क से जुड़ा यह शहर बड़े बड़े मॉल और मल्टीप्लेक्स के लिए भी जाना जाता है। गाजियाबाद लोकसभा सीट की गिनती उत्तर प्रदेश की वीआईपी सीटों में होती है।

गाजियाबाद में पहले चरण के अंतर्गत 11 अप्रैल को मतदान हुए। यहां मतदान का प्रतिशत 57.06 रहा।


गाजियाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत 5 विधानसभा क्षेत्र आते हैं – गाजियाबाद, साहिबाबाद, लोनी, मुरादनगर और धौलाना। 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में इनमें से सिर्फ धोलाना सीट बहुजन समाज पार्टी के खाते में गई थी, जबकि अन्य सभी 4 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा था। 2009 लोकसभा चुनाव से पहले ये सीट हापुड़ लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत थी। साल 2009 में हुए परिसीमन के बाद हापुड़ लोकसभा सीट को समाप्त कर दिया गया। गाजियाबाद लोकसभा सीट पर अबतक दो बार 2009 और 2014 में लोकसभा चुनाव हुए हैं और दोनों बार बीजेपी ने बाजी मारी है।

बता दें, साल 2009 में यहां बीजेपी से राजनाथ सिंह जीते थे, वहीं साल 2014 में यहां वीके सिंह जीते। पिछले लोकसभा चुनाव में जनरल वीके सिंह ने कांग्रेस के राजबब्बर को करीब 5 लाख मतों से हराया था। जातीय समीकरण के लिहाज से बीजेपी और सपा दोनों के लिए ये सीट काफी चुनौती भरी है। वोटरों की संख्या के हिसाब से देखें तो गाजियाबाद प्रदेश की बड़ी लोकसभा सीटों में से गिनी जाती है। 2014 में यहां करीब 23 लाख से अधिक वोटर थे, इनमें 13 लाख पुरुष और 10 लाख महिला वोटर रहीं। गाजियाबाद में मुस्लिम जनसंख्या भी 25 फीसदी से अधिक है, ऐसे में मुस्लिम वोटरों का भी काफी गहरा प्रभाव है।

इस बार गाजियाबाद लोकसभा सीट पर कुल 12 उम्मीदवार मैदान में हैं। जिस तरह से गाजियाबाद लोकसभा सीट पर तीनों पार्टियों से उम्मीदवार उतारे हैं, इस लिहाज से यहां त्रिकोणीय और दिलचस्प मुकाबला देखने को मिलेगा।

निवर्तमान सांसद:  जनरल वीके सिंह

2014 लोकसभा चुनाव के नतीजे

जनरल वीके सिंह, बीजेपी – 7,58,482

राज बब्बर, कांग्रेस – 1,91,222

मुकुल, बसपा – 1,73,085

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • जनरल वीके सिंह, बीजेपी
  • सुरेश बंसल, सपा
  • डॉली शर्मा, कांग्रेस

पहले चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 18 मार्च
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 25 मार्च
नामांकन पत्र की जांच 26 मार्च
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 28 मार्च
मतदान की तारीख 11 अप्रैल
मतगणना की तारीख 23 मई

देखें, यूपी में बीजेपी, कांग्रेस और सपा-बसपा गठबंंधन के उम्मीदवारों की पूरी लिस्ट

लोकसभा चुनाव 2019: पहले चरण के लिए 11 अप्रैल को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)