वैशाली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

वैशाली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र, बिहार: वर्तमान सांसद, उम्मीदवार, मतदान तिथि और चुनाव परिणाम

बिहार का वैशाली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकबार फिर से नया सांसद चुनने को तैयार है। 2014 के लोकसभा चुनाव में वैशाली सीट से लोजपा के रामा किशोर सिंह ने राजद उम्मीदवार और पूर्व केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह को हराया था। रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा इस चुनाव में एनडीए के साथ मिलकर लड़ी थी और उसे मोदी लहर का पूरा फायदा मिला था। जदयू के विजय कुमार साहनी तीसरे स्थान पर रहे थे।  निर्दलीय उम्मीदवार अनु शुक्ला चौथे नंबर पर रही थीं। इस बार लोजपा ने रामा सिंह का टिकट काटकर वीणा देवी को उम्मीदवार बनाया है। वहीं, महागठबंधन खेमे से रघुवंश प्रसाद सिंह आरजेडी उम्मीदवार हैं।

वैशाली लोकसभा सीट पर छठे चरण में 12 मई को मतदान होने हैं।


वैशाली का नाम महाभारत काल के राजा विशाल पर पड़ा है। जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म वैशाली में ही हुआ था। भगवान बुद्ध यहां काफी समय तक रहे और अपना आखिरी प्रवचन भी दिया। इसके अलावा वैशाली को विश्व में पहली बार लोकतंत्र की स्थापना और संसद के गठन का गौरव प्राप्त है। लगभग छठी शताब्दी ईसा पूर्व में यहां के शासक जनता के प्रतिनिधियों द्वारा चुने जाने लगे और गणतंत्र की नींव पड़ी। वैशाली गणतंत्र में 7777 निर्वाचित गण शासन व्यवस्था का संचालन करते थे। यहां के प्रसिद्ध स्थालों में अशोक स्तंभ, बौद्ध स्तूप, बावन पोखर मंदिर हैं। राजा विशाल का किला और जैन धर्मावलंबियों का प्रमुख स्थिल कुण्ड लपुर धाम यहीं पर है।

वैशाली लोकसभा सीट का इतिहास

वैशाली लोकसभा सीट पहली बार 1977 में अस्तित्व में आया। हर लोकसभा चुनाव में जातीय समीकरणों पर यहां के वोटर रोचक आंकड़े गढ़ते रहे हैं। वैशाली लोकसभा सीट पर 12 चुनावों में से दस बार राजपूत प्रत्याशी की जीत हुई है। दो बार भूमिहार प्रत्याशी जीते, जबकि छह बार दूसरे स्थान पर रहे। अब तक वैशाली संसदीय सीट के लिए हुए चुनावों में सबसे अधिक जनता दल और राजद ने मिलाकर सात बार जीत दर्ज की। जनता पार्टी ने दो, कांग्रेस ने एक, बिहार पीपुल्स पार्टी ने एक और लोजपा ने पहली बार 2014 में जीत दर्ज की थी। दिग्विजय नारायण सिंह, मुख्यमंत्री रहे सत्येंद्र प्रसाद सिन्हा की पत्नी किशोरी सिन्हा, उषा सिन्हा, शिवशरण सिंह, रघुवंश प्रसाद सिंह इस क्षेत्र के चर्चित नाम हैं।

वैशाली राजद का मजबूत गढ़ रहा है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह यहां से लगातार पांच बार सांसद निर्वाचित हुए। वे 1996 में जनता दल तथा 1998, 1999, 2004 एवं 2009 में राजद के टिकट पर चुनाव जीते। लेकिन, 2014 के चुनाव में लोजपा (एनडीए) के रामा किशोर सिंह ने उन्हें शिकस्त दे दी।


2014 का लोकसभा चुनाव

2014 के लोकसभा चुनाव में वैशाली सीट से लोजपा के रामा किशोर सिंह चुनाव जीते थे। उन्हें 305450 वोट मिले थे। दूसरे नंबर पर रहे थे राजद उम्मीदवार और पूर्व केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह। जिन्हें 206183 वोट मिले। बाहुबली विधायक मुन्ना शुक्ला की पत्नी और निर्दलीय उम्मीदवार अनु शुक्ला 104229 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रही थीं। इस सीट से 2009 के चुनाव में रघुवंश प्रसाद सिंह ने जदयू के विजय कुमार शुक्ला को 21405 वोट से हराया था।

वैशाली संसदीय सीट का समीकरण

वैशाली संसदीय सीट के अंतर्गत छह विधानसभा क्षेत्र आते हैं- वैशाली, कांटी, मीनापुर, बरूराज, साहेबगंज और पारू। वैशाली को छोड़कर सभी विधानसभा क्षेत्र मुजफ्फरपुर जिले में पड़ते हैं। 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में यहां से तीन सीटों पर राजद और एक-एक सीट पर भाजपा, जदयू और निर्दलीय उम्मीदवार जीते। हालांकि, निर्दलीय विधायक का झुकाव जदयू की ओर है। वैशाली लोकसभा में मतदाताओं की संख्या 17 लाख 18 हजार 311 है। राजपूत, यादव और भूमिहार जाति की संख्या सबसे अधिक है।

वैशाली में मुकाबला राजद के डॉ. रघुवंश सिंह और लोजपा की वीणा देवी के बीच है। लोजपा ने वर्तमान सांसद रामा किशोर सिंह की जगह पूर्व भाजपा विधायक वीणा देवी को पार्टी में शामिल करते हुए उम्मीदवार बनाया है। वीणा देवी के पति जेडीयू विधान पार्षद दिनेश सिंह ही पहले रघुवंश प्रसाद सिंह के चुनाव की व्यवस्था संभालते थे। वे रघुवंश प्रसाद सिंह के वोट में सेंधमारी कर उनके चुनावी व्यूह रचना को भी भेदना चाहेंगे। इस बार वैशाली में पूर्व विधायक मुन्ना शुक्ला या उनकी पत्नी चुनाव नहीं लड़ रही हैं।

निवर्तमान सांसद: रामा किशोर सिंह

लोकसभा चुनाव 2014 के नतीजे

रामा किशोर सिंह, लोजपा – 3,05,450
रघुवंश प्रसाद सिंह, राजद – 2,06,183
विजय कुमार साहनी, जेडीयू – 1,45,182

2019 लोकसभा चुनाव के लिए प्रमुख उम्मीदवार

  • वीणा देवी, लोजपा/एनडीए
  • रघुनाथ प्रसाद सिंह, राजद/महागठबंधन
  • शंकर महतो, बहुजन समाज पार्टी

छठे चरण के चुनाव लिए महत्वपूर्ण तिथियां

अधिसूचना  जारी 10 अप्रैल
नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 16 अप्रैल
नामांकन पत्र की जांच 23 अप्रैल
नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 24 अप्रैल
मतदान की तारीख 12 मई
मतगणना की तारीख 23 मई

लोकसभा चुनाव 2019: छठे चरण में 12 मई को इन सीटों पर होगी वोटिंग, देखें राज्यवार सूची

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)