एम्स में आग की प्रारंभिक जांच शुरू

 नई दिल्ली, 18 अगस्त (आईएएनएस)| अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के परिसर में आग लगने की भयानक दुर्घटना के बाद, केंद्र सरकार द्वारा संचालित अस्पताल ने रविवार को दुर्घटना की एक आंतरिक जांच शुरू की, ताकि इस बात का पता लगाया जा सके कि इस हादसे की वजह क्या थी और अग्नि-रोधी उपायों को किस तरह से मजबूत किया जा सकता है।

 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने अस्पताल के निदेशक और वरिष्ठ संकाय सदस्यों के साथ एम्स में स्थिति की समीक्षा की।


अस्पताल ने एक बयान में कहा, “माइक्रोबायोलॉजी प्रयोगशाला से आग लगने की आशंका जताई जा रही है, जिसने कुछ और प्रयोगशालाओं और कार्यालय परिसर को प्रभावित किया है। अस्पताल परिसर को आग से कोई नुकसान नहीं पहुंचा है और कोई हताहत नहीं हुआ है।”

बयान में आगे कहा गया है, “एहतियात के तौर पर एम्स प्रशासन ने एबी विंग से मरीजों को अस्पताल के अन्य भागों में स्थानांतरित कर दिया था। इन मरीजों को वापस उनके वार्ड में भेज दिया गया है।”

बयान के मुताबिक, “आपातकालीन विभाग और आपातकालीन प्रयोगशालाओं के साथ अस्पताल पूरी तरह से चालू है।”


ऐसा कहा गया है कि एम्स प्रशासन ने आग लगने के कारण का पता लगाने और सुरक्षा उपायों को मजबूत बनाने के लिए एक आंतरिक जांच शुरू की है।

बयान में आगे कहा गया, “एम्स में आग से बचाव की नियमित व्यवस्था है। फायर फाइटिंग सेफ्टी सिस्टम की नियमित जांच के साथ यहां चौबीस घंटे फायरकर्मी तैनात रहते हैं और अग्नि निकास और गलियारों की भी नियमित जांच की जाती है। कर्मचारियों को नियमित तौर पर अग्निशमन प्रणाली के बारे में जागरूक किया जाता है।”

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)