बाजार में इस बार मिलेगी गोबर से बनी राखी, जानें इसकी खासियत

राखी भाई-बहन के प्यार का पवित्र त्यौहार है। इस दिन हर बहन अपने भाई की कलाई पर सबसे सुंदर राखी सजाना चाहती है। मान्यता है कि इस बंधन में भाई अपनी बहन को रक्षा का वचन देना है और बहन बड़े ही प्यार से भाई की कलाई पर राखी सजाती है। रक्षाबंधन का आने को है और ऐस में बहनें अपने भाई की कलाई सजाने के लिए तैयारियां कर रही हैं। राखियों की खरीददारी जोरों पर है, अलग अलग डिजाइन की राखियां बाजार को गुलजार कर रही हैं। ऐसे में इस साल एक ऐसी राखी भी बाजार में आने को तैयार है जो गाय के गोबर से बनी है। उत्तर प्रदेश के बिजनौर में स्थित श्री कृष्‍ण गौशाला में देशी गाय के गोबर से राखियों का निर्माण किया जा रहा है। इन राखियों को खरीदने में एक संस्‍था ने भी दिलचस्पी दिखाई है।

खबरों के अनुसार इन राखियों की खास बात यह है कि यह राखियां किसी भी प्रकार से पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाएंगी। इन राखियों का काम खत्म होने के बाद इन्हें आसानी से मिट्टी में दबाया जा सकेगा जहां पर यह उर्वरकता को बढ़ावा देंगी। वहीं बाजार में सामान्य तौर पर बिकने वाली राखियों में प्लास्टिक और धातु होने के साथ ही पेंट्स का कैमिकल पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचाता है।


न्यूज 18 की खबर के अनुसार श्री कृष्‍ण गोशाल में देशी नस्ल की लाल सिंधी गाय हैं। इनके गोबर को राखी का आकार देकर सुखाया जा रहा है फिर इसको सजा कर इसके साथ सूत के धागे को बंधा जा रहा है। इन राखियों को बाजार में देखना वाकई दिलचस्प होगा, लेकिन उससे भी ज्यादा मजेदार ये देखना होगा की क्या लोग इसे पसंद करते भी हैं या नहीं।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)