VIDEO: न्यूज्ड से खास बातचीत में बोले CPI-ML महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य- ये देश बचाने का चुनाव है!

VIDEO: न्यूज्ड से खास बातचीत में बोले CPI-ML महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य- ये देश बचाने का चुनाव है!

बिहार की आरा लोकसभा सीट देश के पहले स्वतंत्रता संग्राम (1857 की क्रांति) के अमर योद्धा बाबू वीर कुंवर सिंह की ऐतिहासिक धरती है। देश के पहले दलित डिप्टी पीएम जगजीवन बाबू , पहली महिला लोकसभा स्पीकर के रूप में उनकी बेटी मीरा कुमार और लोकसभा में पहले प्रतिपक्ष के नेता रामसुभग सिंह इसी माटी से उपजे हैं। यहां के पहले सांसद बलिराम भगत लोकसभा स्पीकर भी बने। 2019 लोकसभा चुनाव में आरा लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार मौजूदा सांसद राजकुमार सिंह हैं तो वहीं CPI-ML की ओर से मैदान में राजू यादव हैं।

CPI-ML के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र न्यूज्ड से खास बातचीत की। उन्होंने कहा कि यह चुनाव जनता बनाम मोदी सरकार के बीच है। उन्होंने बताया कि आरा हमेशा से भाजपा के विरोध में रहा है मगर 2014 के मोदी लहर में भाजपा पहली बार यहां जीत दर्ज करने में सफल रही। राम मंदिर आंदोलन के समय भी आरा ने रामेश्वर प्रसाद को 1989 में संसद भेजा था। 2015 के विधानसभा चुनाव में यहां से 1 भी सीट भाजपा नहीं जीत पाई थी। इस चुवाव में खास परिस्थितियों को देखते हुए हम कम सीटों पर लड़ रहे हैं और लोकतंत्र को बचाने के लिए हम बाकि सीटों पर महागठबंधन के उम्मीदवारों का समर्थन किया है। आरा में भाकप-माले मजबूत स्थिति में है और इस बार आरा की जनता मोदी सरकार को जवाब देगी।


गौरतलब है कि आरा लोकसभा सीट के अंतर्गत सात विधानसभा सीटें हैं, जिनमें सन्देश, बरहरा, आरा, तराई, जगदीशपुर, शाहपुर और अगिआव शामिल हैं। इनमें से अगिआव विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है।

आपको बता दें कि बिहार की आरा लोकसभा सीट पर 2014 में हुए चुनाव में BJP के राज कुमार सिंह ने जीत हासिल की थी। उन्हें 3,91,074 वोट मिले थे। वहीं 2,55,204 वोट पाकर दूसरे पायदान पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के श्रीभगवान सिंह कुशवाहा रहे थे।


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)