MDH मसालों के सैंपल की होगी जांच, सांभर मसाले में पाया गया था बैक्टीरिया

MDH मसालों के सैंपल की होगी जांच, सांभर मसाले में पाया गया था बैक्टीरिया

देश की मशहूर मसाला कंपनी एमडीएच (MDH) के सांभर मसाले में बैक्टीरिया की शिकायत मिलने के बाद अब इस ब्रांड के सभी उत्पादों के सैंपलों की जांच की जाएगी। ऑल इंडिया फूड एंड ड्रग लाइसेंस होल्डर फाउंडेशन (AFDLHF) ने इसके लिए महाराष्ट्र अन्न और औषधि प्रशासन विभाग को पत्र लिखा है। बता दें कि अमेरिकी फूड एंड ड्रग अथॉरिटी (एफडीए) की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार MDH मसाले के एक उत्पाद में साल्मोनेला मिलने की पुष्टि हुई है।

एएफडीएलएचएफ ने पत्र में लिखा है कि एमडीएच सांभर मसाले में कथित तौर पर साल्मोनेला बैक्टीरिया मिलने के बाद अमेरिका से इन मसालों की कम से कम तीन खेप वापस भेज दी गई है। अमेरिका की फूड एंड ड्रग रेगुलेटर बॉडी (एफडीए) की ओर से कराए गए कुछ टेस्ट के रिजल्ट सामने आने के बाद सैंपल की जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं। महाराष्ट्र एफडीए से निवेदन किया गया है कि मामले का तुरंत संज्ञान लेकर एमडीएच के सभी उत्पादों के सैंपल की जांच करवाई जाए।


अमेरिका ने वापस भेजी खेप

गौरतलब है कि यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) द्वारा एमडीएच ब्रांड के सांभर मसाला में साल्मोनेला बैक्टीरिया का पता लगाने के बाद कंपनी ने मसाले के तीन लॉट वापस कर दिए थे। हाउस ऑफ स्पाइसेस (इंडिया) द्वारा वितरित उत्पाद को एफडीए द्वारा प्रमाणित लैब में टेस्ट किया गया तो उसमें साल्मोनेला के बैक्टीरिया पाए गए थे, जो सेहत के लिहाज से काफी हानिकारक है।

साल्मोनेला से ग्रस्त खाद्य पदार्थ को खाने के 12 से 72 घंटों में दस्त, बुखार, पेट में मरोड़ जैसी बीमारियां होती हैं। इन बीमारियों से निजात पाने में चार से सात दिन लगते हैं। बुजुर्गों, बच्चों और कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को इस बीमारी का खतरा सबसे अधिक होता है।


सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देते हुए फूट-फूटकर रोने लगे MDH मसाले के मालिक महाशय धर्मपाल


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)