गुरप्रीत और अमरिंदर आईएसएल में ‘गोल्डन ग्ल्ब्स अवार्ड’ के दावेदार

मुम्बई, 26 फरवरी (आईएएनएस)| गुरप्रीत सिंह संधू और अमरिंदर सिंह हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन में ‘गोल्डन ग्ल्ब्स पुरस्कार’ के प्रमुख दावेदार हैं। इस सीजन में सभी की नजरें फेरान कोरोमिनास (एफसी गोवा), बार्थोलोमेव ओग्बेचे (नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी) और हाल ही में हैट्रिक लगाने वाले मोदू सोगू (मुंबई सिटी एफसी) जैसे दिग्गज गोलस्कोर्स पर थीं, लेकिन इसी बीच गोलकीपरों के बीच की रेस बहुत रोचक हो गई।

अभी इस रेस में बेंगलुरू एफसी के गोलकीपर गुरप्रीत आगे चल रहे हैं। शीर्ष-3 में शामिल टीमों में से गुरप्रीत इकलौते गोलकीपर हैं, जो इस सीजन में बेंगलुरू के हर मैच के हर मिनट में मैदान पर मौजूद रहे हैं। उन्होंने अभी तक 1530 मिनट मैदान पर बिताए हैं। इस मामले में एटीके के गोलकीपर अरिंदम भट्टाचार्य गुरप्रीत की बराबरी कर सकते हैं, लेकिन गुरप्रीत को अंत तक मुंबई के अमरिंदर से चुनौती मिलेगी।


अमरिंदर ने इस सीजन में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। मुंबई ने अभी तक सिर्फ 16 गोल खाए हैं और अमरिंदर के रहते हुए उसका औसत 89.56 गोल प्रति मिनट का है। 25 साल के इस गोलकीपर ने इस सीजन में सबसे ज्यादा छह क्लीनशीट हासिल की हैं।

मुंबई इस सीजन प्लेऑफ में जाने में सफल रही है। इसकी एक बड़ी वजह पंजाब में जन्मा यह गोलकीपर भी है। मुंबई ने सीजन की शुरूआत में उन्हें तीन साल के करार का प्रस्ताव दिया था और वह इस बात को सुनिश्चित करने में लगे हुए हैं कि उन पर खत्म किया गया पैसा पूरी तरह से जायज साबित हो।

वहीं, गुरप्रीत भारत के इतिहास के सबसे महंगे गोलकीपर हैं और वह अपनी यूरोपियन सीख का इस्तेमाल आईएसएल में अच्छे से कर रहे हैं। गुरप्रीत का गोलपोस्ट पर रहना बेंगलुरू के डिफेंस को मजबूती देता है, हालांकि दिल्ली डायनामोज के खिलाफ खाए गए तीन गोल महज एक अपवाद थे।


गुरप्रीत ने इस सीजन अभी तक पांच क्लीनशीट हासिल की हैं और सबसे ज्यादा (55) सेव किए हैं। कई मैचों में तो उन्होंने अकेले के दम पर बेंगलुरू को गोल खाने से बचाया है।

आईएसएल के आंकड़ों के मुताबिक, गुरप्रीत ने औसतन हर 90 मिनट में एक गोल खाया है। वहीं, अमरिंदर उनके काफी करीब हैं। उन्होंने औसतन 89.56 मिनट में गोल खाया है।

इस सूची में तीसरा नाम पवन कुमार का है। पवन की निरंतरता नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी के पहली बार आईएसएल के प्लेऑफ में जाने की बड़ी वजह रही है।

पवन ने पांच क्लीन शीट हासिल की हैं तो वहीं 53 बचाव किए हैं और इसी कारण वह टीपी रेहनेश से काफी आगे खड़े हैं। रेहनेश के कारण एल्को स्कोटेरी की नार्थईस्ट को नुकसान उठाना पड़ा था। इसके बाद स्कोटेरी ने पवन का इस्तेमाल किया और इस खिलाड़ी ने कोच के फैसले को सही ठहराया।

पवन ने मुश्किल हालात में भी अपना संयम बरकरार रखा। साथ ही अपने रिकार्ड को भी बेहतर किया।

इन तीनों गोलकीपरों के प्रदर्शन ने बताया है कि गोलपोस्ट पर दमदार खिलाड़ी की मौजूदगी आईएसएल में कितनी अहम है। अब जबकि प्लेऑफ करीब हैं, ऐसे में इन खिलाड़ियों पर अपनी टीम की जिम्मेदारी पहले से ज्यादा है।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like