लॉकडाउन में छूट मिलते ही हीरो मोटोकॉर्प ने बेची 10 हजार बाइक्स और स्कूटर्स

लॉकडाउन में छूट मिलते ही हीरो मोटोकॉर्प ने बेची 10 हजार बाइक्स और स्कूटर्स

कोरोना वायरस लॉकडाउन (Lockdown) के चलते देश की कई बड़ी कंपनियों को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है। कोरोना लॉकडाउन से प्राइवेट सेक्टर में ही नहीं बल्कि सरकारी सेक्टर में भी बहुत बड़ा नुकसान देखने को मिला है। सरकार को निजी क्षेत्रों (Private Sector) से मिलने वाले टैक्स में भी बहुत बड़ी गिरावट देखने को मिली है। जिससे सरकार को बहुत घाटा हुआ है।

इसी चलते केंद्र सरकार ने तीसरे चरण के लॉकडाउन में अर्थव्यस्था (Economy) को पटरी पर लाने के लिए कई बड़ी कंपनियों को खोलने की छूट दी है। जिसके बाद बंद पड़ी ऑटो कंपनियों ने फिर से काम करना शुरू कर दिया है।


सरकार की तरफ से लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद लंबे समय बाद ऑटो कंपनी (Auto Company) हीरो मोटोकॉर्प ने अपने शॉरूम और कारखाने खोल दिए हैं। जिसके बाद कंपनी ने पिछले कुछ दिनों में ही हीरो की 10 हजार से ज्यादा मोटर साइकिल और स्कूटर्स की बिक्री है।

आटो कंपनी हीरो (Hero Motocorp ) ने यह बिक्री अपने 1500 शोरूम पर की है। इसके अलावा कंपनी ने अपने नियामकों को दिए बयान में कहा कि उनकी अधिकृत वितरक और सर्विस आउटलेट्स ने काम शुरू कर दिया है। जिसके बाद 7 मई से कारखानों से वाहन बनकर शोरूम पहुंचना शुरू हो गए हैं। बता दें देश में हीरो की 30 फीसदी हिस्सेदारी घरेलू बिक्री की रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक, दुपहिया निर्माता कंपनी हीरो पहली ऐसी कंपनी है, जिसने लॉकडाउन के बीच अपने शोरूम और कारखानों में काम करना शुरू कर दिया है। कंपनी ने चार मई से हरियाणा के धारुहेरा, गुरुग्राम और हरिद्वार के कारखानों में काम शुरू कर दिया था।


कंपनी ने लॉकडाउन में दोबारा शूरू हुए काम के संबंध में कहा है कि कर्मचारी और ग्राहक सहित प्रत्येक व्यक्ति की सेहत का ध्यान रखना हमारी पहली प्राथमिकता है। इसलिए हम सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पूरा ख्याल रख रहे हैं।

हीरोकॉर्प (Hero Motocorp ) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन के संबंध में डीलर, सर्विस सेंटर आदि को जागरुक करने के लिए हिंदी, अंग्रेजी के अलावा 10 क्षेत्रीय भषाओं में मैन्युल जारी किया है। इसमें चित्रों के जरिए कोरोना से बचने व सुरक्षित रहने के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में बताया गया है जिनका पालन किया जाना आवश्यक है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)