Howdy Modi: क्या है ‘हाउडी’ का मतलब, अमेरिका में ट्रंप संग 50 हजार लोगों को संबोधित करेंगे PM मोदी

Howdy Modi: क्या है 'हाउडी' का मतलब, अमेरिका में ट्रंप संग 50 हजार लोगों को संबोधित करेंगे PM मोदी

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के साथ 50 हजार लोगों को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी अमेरिका में 22 सितंबर को आयोजित होने वाले कार्यक्रम ‘हाउडी’ मोदी में शिरकत करेंगे, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति भी शामिल होंगे। खास बात यह है कि इस कार्यक्रम में करीब 50 हजार से ज्यादा लोग शामिल हो रहे हैं, जिसे पीएम मोदी संबोधित करेंगे। इस कार्यक्रम का नाम ‘हाउडी’ मोदी रखा गया है। इस ‘हाउडी’ का मतलब विशेष है।

क्या है हाउडी?

”हाउडी’ शब्द का प्रयोग ‘आप कैसे हैं?’ के लिए किया जाता है। हाउडी का मतलब होता है, हाउ डू यू डू? (आप कैसे हैं?)। दक्षिण पश्चिम अमेरिका में अभिवादन के लिए इस शब्द का प्रयोग किया जाता है।


मोदी ने कहा, खास दोस्ती का संकेत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार सुबह ट्वीट कर अमेरिकी राष्ट्रपति के 22 सितंबर के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर प्रसन्नता जताई। उन्होंने लिखा, ‘अमेरिका के राष्ट्रपति का यह फैसला भारत और अमेरिका के बीच खास दोस्ती का संकेत है।’ पीएम ने ट्वीट में कहा कि ह्यूस्टन में मेरे साथ अमेरिकी राष्ट्रपति का मौजूद होना अमेरिकी समाज और अर्थव्यवस्था में भारतीय समुदाय के योगदान को मान्यता देता है। उन्होंने कहा कि 22 को ह्यूस्टन में आयोजित कम्युनिटी प्रोग्राम में डॉनल्ड ट्रंप भी होंगे, इससे काफी खुश हूं। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय समुदाय के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए काफी उत्साहित हूं।

पहुंचेंगे 50 हजार से ज्यादा भारतीय

हालिया इतिहास में यह पहली बार होगा जब दो सबसे बड़े लोकंतत्रों के नेता एक संयुक्त रैली को संबोधित करेंगे। एनआरजी स्टेडियम में होने वाले कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी! शेयर्ड ड्रीम्स, ब्राइट फ्यूचर के लिए रिकार्ड संख्या में 50,000 से अधिक लोगों ने पंजीकरण कराया है। इसके संबंध में वाइट हाउस की मीडिया सचिव स्टेफिनी ने बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि मोदी और ट्रंप की यह जॉइंट रैली भारत और अमेरिका के रिश्तों को मजबूत करने का अहम मौका होगी। वाइट हाउस ने बताया कि पीएम ऑफिस की तरफ से ही इसके लिए न्योता दिया गया था।


अमेरिका में राष्ट्रपति पद के दावेदारों ने कश्मीर मुद्दा उठाया

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)