Connect with us

बिज़नेस

सेंसेक्स में 77 अंकों की तेजी

Published

on

सेंसेक्स में 0.94 फीसदी, निफ्टी में 0.98 फीसदी की तेजी

मुंबई,  देश के शेयर बाजारों में मंगलवार को तेजी रही। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 77.01 अंकों की तेजी के साथ 36,347.08 पर और निफ्टी 20.35 अंकों की तेजी के साथ 10,908.70 पर बंद हुआ।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 43.69 अंकों की गिरावट के साथ 36,226.38 पर खुला और 77.01 अंकों या 0.21 फीसदी तेजी के साथ 36,347.08 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,375.38 के ऊपरी स्तर और 36,046.52 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 32.13 अंकों की तेजी के साथ 15,289.90 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 65.48 अंकों की तेजी के साथ 14,605.52 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 37.45 अंकों की गिरावट के साथ 10,850.90 पर खुला और 20.35 अंकों या 0.19 फीसदी तेजी के साथ 10,908.70 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 10,915.40 के ऊपरी और 10,819.10 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के 19 में से 15 सेक्टरों में तेजी रही। बिजली (1.09 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (1.08 फीसदी), दूरसंचार (0.97 फीसदी), उपभोक्ता सेवाएं (0.95 फीसदी) और धातु (0.90 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही।

बीएसई के चार सेक्टरों -प्रौद्योगिकी (1.13 फीसदी), सूचना प्रौद्योगिकी (1.08 फीसदी), तेज खपत उपभोक्ता वस्तु एवं सेवाएं (0.29 फीसदी) और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं (0.02 फीसदी) में गिरावट रही।

बिज़नेस

पेट्रोल, डीजल के बढ़ते भाव पर लगी ब्रेक, जानें महानगरों में आज के रेट

Published

on

By

पेट्रोल, डीजल के बढ़ते भाव पर लगी ब्रेक, जानें महानगरों में आज के रेट petrol price, petrol diesel price, petrol price today, petrol ka dam

नई दिल्ली। डीजल और पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि पर एक बार फिर ब्रेक लग गया है। लगातार 13 दिनों की वृद्धि के बाद बुधवार को डीजल के दाम बढ़ोतरी का सिलसिला थम गया। पेट्रोल की कीमतों पर लगातार छह दिनों की वृद्धि के बाद स्थिरता आई है।

महानगरों में पेट्रोल-डीजल के रेट

दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में बुधवार को पेट्रोल के भाव क्रमश: 71.27 रुपये, 73.36 रुपये, 76.90 रुपये और 73.99 रुपये प्रति लीटर पर स्थिर रहे। चारों महानगरों में डीजल की कीमतें भी पूवर्वत क्रमश: 65.90 रुपये, 67.68 रुपये, 69.01 रुपये और 69.62 रुपये प्रति लीटर बनी रहीं।

तेल विपणन कंपनियों ने मंगलवार को दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल के भाव में 13 पैसे जबकि चेन्नई में 14 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की थी और डीजल के दाम दिल्ली और कोलकाता में 19 पैसे और जबकि मुंबई में 20 पैसे और चेन्नई में 21 पैसे प्रति लीटर बढ़ा दिए थे।


लगातार 12वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, दिल्ली में पेट्रोल का रेट 71 रुपए के पार

Continue Reading

इकॉनमी

सिर्फ 9 लोगों के पास है देश की आधी आबादी जितनी संपत्ति, पढ़ें रिपोर्ट

Published

on

reliance mukesh ambani has more assets than governments public welfare expenditure Oxfam report सिर्फ 9 लोगों के पास है देश की आधी आबादी जितनी संपत्ति, पढ़ें रिपोर्ट

भारत के अरबपतियों की संपत्ति में पिछले साल हर दिन 2200 करोड़ रुपए का इजाफा हुआ है। शीर्ष 1% में शामिल अमीरों की संपत्ति में 39% की बढ़ोतरी हुई है। जबकि, कम से कम दौलत वाली देश की 50% आबादी की संपत्ति सिर्फ 3% बढ़ी है। सोमवार को OXFAM ने यह रिपोर्ट जारी की है।

रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति में पिछले साल 12% (2.5 अरब डॉलर/दिन) का इजाफा हुआ। जबकि, गरीबों में शामिल दुनिया की आधी आबादी की दौलत 11% और घट गई है।

रिपोर्ट के अनुसार भारत में चिकित्सा, जनस्वास्थ्य, स्वच्छता और जल आपूर्ति जैसे जनकल्याणकारी कार्य पर केंद्र और राज्य सरकारों का कुल मिलाकर राजस्व और पूंजी व्यय 2,08,166 करोड़ रुपये है, जबकि इससे ज्यादा 2.8 लाख करोड़ रुपये की संपदा तो देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी के पास है।

रिपोर्ट की खास बातें

  • OXFAM की रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल देश के अरबपतियों की सूची में 18 नए नाम जुड़े। इनकी संख्या 119 हो गई। इनकी कुल संपत्ति का आंकड़ा पहली बार 28 लाख करोड़ रुपए (1 अरब डॉलर) तक पहुंच गया।
  • देश के सबसे बड़े अमीर मुकेश अंबानी की दौलत 8 लाख करोड़ रुपए है। यह केंद्र और राज्य सरकारों के मेडिकल, जन स्वास्थ्य, और पानी आपूर्ति के राजस्व और खर्चों (2.08 लाख करोड़ रुपए) से ज्यादा है।
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के 13.6 करोड़ लोग जो कि सबसे गरीब 10% आबादी में शामिल हैं, वो साल 2004 से लगातार कर्ज में फंसे हुए हैं। OXFAM का कहना है कि गरीबों और अमीरों के बीच बढ़ता फर्क, गरीबी मिटाने के प्रयासों को खोखला कर रहा है। यह अंतर अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा रहा है और दुनियाभर के लोगों में इसको लेकर गुस्सा बढ़ रहा है।
  • इस साल वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में शामिल होने वाले राजनीतिज्ञ और कारोबारियों से OXFAM का कहना है कि अमीर-गरीब के बीच बढ़ते अंतर से निपटने के लिए तुरंत प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है। दावोस में मंगलवार से वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की शुरुआत हो रही है।
  • OXFAM के इंटरनेशनल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर विन्नी ब्यानयिमा का कहना है कि यह नैतिक रूप से अपमानजनक स्थिति है कि कुछ अमीर भारतीयों की संपत्ति लगातार बढ़ रही है जबकि गरीब अपनी बुनियादी जरुरतों के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। इससे देश की सामाजिक-लोकतांत्रिक व्यवस्था को बड़ा नुकसान हो सकता है।

वर्ल्ड बैंक के प्रमुख पद की दौड़ में भारतीय मूल की इंदिरा नूई

Continue Reading

बिज़नेस

पाकिस्तान में अपनी फिल्म दिखाए जाने की जानकारी देने पर ट्रोल हुए अनुपम खेर

Published

on

अनुपम खेर की विवादित फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ एक बार फिर चर्चा में है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल पर बनी फिल्म के पाकिस्तान में रिलीज होने की खबर है। आज अनुपम खेर ने ट्वीट करते हुए यह जानकारी दी के उनकी फिल्म को पाकिस्तान में भी दिखाया जा रहा है। साथ ही खेर ने उन सिनेमाघरों की लिस्ट भी दी, जिसमें यह फिल्म दिखाई जा रही है।


इसके बाद अनुपम खेर को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जान लगा। सोशल मीडिया पर कई यूज़र उनसे तीखे सवाल करने लगे। बताते चलें कि अनुपम खेर अपनी राष्ट्रवादी छवि और पाकिस्तान विरोधी रुख के बारे में जाने जाते हैं। पाकिस्तानी कलाकारों के भारतीय फिल्म जगत में काम करने का वह विरोध करते रहे हैं। खेर का मानना है कि जब तक दोनों देशों के रिश्ते सामान्य नहीं हो जाते तबतक भारत में पाकिस्तानी कलाकरों के लिए कोई जगह नहीं होगी।

ज्यादातर यूजर ने खेर की आलोचना करते हुए लिखा है कि अनुपम खेर यहाँ राष्ट्रवाद की बात करते हैं, पाकिस्तान के खिलाफ मोर्चा खोले रहते हैं। मगर पाकिस्तान में प्रदर्शित हो रही अपनी फिल्म की जानकारी देन में उन्हें गर्व महसूस हो रहा है, यह दोहरा रवैया है।

कोई उन्हें पाकिस्तान जाने की सलाह दे रहा है तो किसी ने पूछा, ‘क्या राष्ट्रवाद भी अब बिकाऊ हो गया”। एक अन्य यूजर ने कहा “सरकार के खिलाफ बोलने बालों को पाकिस्तान भेजने वाले, आज सरकार के हिमायती अपनी फिल्म जो भारत में बुरी तरह पिट चुकी है, उस फिल्म को लेकर पाकिस्तान गए हैं पैसा कमाने, यह लोग दूसरों को देशभक्ति सिखाते हैं।


वैसे फिल्म ने तो कोई खास कमाल नहीं किया है, मगर फिल्म अपने राजनैतिक विषय को लेकर चर्चाओं में है। 30 करोड़ के बजट में बनी द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर ने एक हफ्ते में महज 16 करोड़ का बिजनेस किया है। भारत में रिलीज होने के बाद आज यह फिल्म पाकिस्तान       में रिलीज हुई है।


‘द एक्सीडेंटल PM’ के पीछे कोई राजनीतिक एजेंडा नहीं : खेर

Continue Reading
Advertisement

Trending

© 2018 Newsd Media Private Limited. All rights reserved.