1971 के बाद भारतीय वायुसेना ने की एयर स्ट्राइक, तब भी मुंह की खाया था पाकिस्तान

1971 के बाद भारतीय वायुसेना ने की एयर स्ट्राइक, तब भी मुंह की खाया था पाकिस्तान

पुलवामा हमले के बाद वायुसेना ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सीमापार के आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया। इस दौरान वायुसेना ने जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को ध्वस्त करते हुए एयर स्ट्राइक की। न सिर्फ एलओसी पार, बल्कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) को पार करके पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर वायुसेना की एयर स्ट्राइक 5 दशकों में पहली बार हुई है। इससे पहले 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में भारत ने एयर स्ट्राइक के जरिये पाकिस्तान को सबक सिखाया था।

बता दें कि भारतीय वायु सेना के विमान मिराज-2000 जेट ने मंगलवार को बालाकोट स्थित जैश के ठिकानों पर पहली स्ट्राइक की। बालाकोट में हमला करना ऐतिहासिक है क्योंकि इस बार वायुसेना ने न सिर्फ एलओसी पार करके बल्कि पीओके को भी पार कर खैबर पख्तूनख्वा में जैश के बालाकोट कैंप में हमला किया।


इस के साथ करीब 5 दशक बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में एयर स्ट्राइक की है। इससे पहले 1971 के युद्ध में एयर स्ट्राइक के जरिए पाकिस्तानी सेना पर कार्रवाई की गई थी। यहां तक कि 1999 के करगिल युद्ध में भी भारतीय वायुसेना ने आतंकी आउटपोस्ट पर बम गिराते वक्त एलओसी पार न करने का खास ध्यान रखा था। पाकिस्तानी सेना को आत्मसमर्पण करने पर मजबूर किया था।

पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) में पाकिस्तान सेना द्वारा आम जनता पर हिंसा और उत्पीड़न के बाद 3 दिसंबर, 1971 को पाकिस्तान की वायुसेना ने भारतीय वायुसेना के 12 स्टेशन पर हमला बोल दिया था। इसमें भारत के अमृतसर और आगरा समेत कई शहरों को निशाना बनाया गया था। इस पर उस वक्त की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान को करारा जवाब देने की ठान ली थी। इसी के साथ ही 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध की शुरुआत हो गई। यह लड़ाई 14 दिन तक चली थी। इसके बाद 16 दिसंबर, 1971 को पाकिस्तान की सेना के लेफ्टिनेंट जनरल एएके नियाजी ने ढाका में आत्मसमर्पण किया था और बांग्लादेश के जन्म के साथ युद्ध का समापन हुआ।

यह भी खास बात है कि 2016 में उरी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक से केंद्र की मौजूदा मोदी सरकार पहली ऐसी सरकार है जिसने इस तरह की जवाबी कार्रवाई को सार्वजनिक किया है। पूर्व की सरकारों ने भी दुश्मन देशों पर इस तरह की जवाबी कार्रवाई की है लेकिन उसे सावर्जनिक करने से बचती रहीं। वहीं भारतीय सैन्य बलों के इस बात की भी तारीफ करनी होगी कि स्ट्राइक करते वक्त आम नागरिकों पर एहतियात बरतते हुए सिर्फ आतंकी कैंपों में ही कार्रवाई हुई।



LIVE: भारत ने लिया पुलवामा का बदला, सरकार का बयान- बड़ी संख्या में जैश के आतंकी और ट्रेनर ढेर

वायुसेना को सेलेब्स ने किया सलाम, सहवाग बोले- Boys played well

मोदी ने सीसीएस बैठक की अध्यक्षता की, भारतीय वायु सेना हाई अलर्ट पर

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)