कोरोना महामारी के चलते IPL 2020 सस्पेंड, बीसीसीआई के अगले आदेश तक टला टूर्नामेंट

कोरोना महामारी के चलते आईपीएल 2020 सस्पेंड, बीसीसीआई के अगले आदेश तक टला टूर्नामेंट

कोरोना वायरस (कोविड-19) वैश्विक महामारी के चलते इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 13वां सीजन अगली सूचना तक के लिए रद्द कर दिया गया है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अपने इस प्रीमियर लीग के लिए कोई नई विंडो भी निर्धारित नहीं की है। आपको बता दें कि IPL 2020 के लिए शुरुआत में 29 मार्च से 24 मई की तारीख तय की गई थी, लेकिन कोरोना और वीजा प्रतिबंध के कारण 15 अप्रैल तक के लिए इसे टाल दिया गया था।

बुधवार को आईं मीडिया रिपोर्ट्स में आईपीएल के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर हेमंग अमीन ने सभी आठों फ्रैंचाइजी को बताया कि चूंकि देशभर में लॉकडाउन तीन मई तक बढ़ा दिया गया है ऐसे में आम तौर पर गर्मियों में होने वाले इस टूर्नामेंट का आयोजन इस विंडो में नहीं करवाया जा सकेगा।


मौजूदा हालात और इंटरनेशनल शेड्यूल के चलते इसका दिसंबर के पहले होना मुश्किल लग रहा है। चूँकि, जून से सितंबर तक मानसून सीजन रहता है। इस दौरान भारत को श्रीलंका और जिम्बाब्वे में सीरीज भी खेलनी है। सितंबर में यूएई में एशिया कप टी-20 खेला जाना है।इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया में फिलहाल छह महीने का ट्रैवल बैन चल रहा है जो 30 सितंबर को समाप्त होगा। अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में टी-20 वर्ल्ड कप भी खेला जाना है। इसके बाद अन्य टीमों की आपसी सीरीज का कैलेंडर भी तय रहता है। इस शेड्यूल के बीच ही बीसीसीआई को आईपीएल के लिए खाली तारीखें तलाशनी होंगी। ऐसा होता है तो भी दिसंबर के पहले आईपीएल होना संभव नहीं लग रहा है।

खिलाड़ियों-फ्रैंचाइजी का क्या होगा

पिछले साल दिसंबर में आईपीएल 2020 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी हुई थी। इसमें फ्रैंचाइजी ने 140.30 करोड़ रुपये खर्च कर कुल 62 खिलाड़ियों को खरीदा था। लेकिन ईएसपीएनक्रिकइंफो के मुताबिक किसी भी आईपीएल खिलाड़ी को तब तक भुगतान नहीं होगा जब तक टूर्नामेंट शुरू न हो जाए।

कैसे मिलते हैं पैसे

नियमों के अनुसार फ्रैंचाइजी खिलाड़ियों को दो किस्तों में भुगतान करते हैं: टूर्नामेंट शुरू होने से एक सप्ताह पहले और बाकी सीजन खत्म होने के बाद। फ्रैंचाइजी को भी नुकसान कम नहीं होगा क्योंकि वे भी आईपीएल के कमर्शल रेवेन्यू पर काफी निर्भर करते हैं। इसमें प्रसारण अधिकार भी शामिल हैं। आईपीएल के प्रसारण अधिकारों की बात करें तो स्टार इंडिया ने साल 2017 में पांच साल के लिए इसे हासिल किया है। तब से हर फ्रैंचाइजी को उसके हिस्से के कम से कम 150 करोड़ रुपये देने का आश्वासन दिया गया है।



टेस्ट चैम्पियनशिप के कार्यक्रम पर विचार करेगी ICC, बीसीसीआई ने कहा संयुक्त प्रयास की जरूरत

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)