लोकसभा में धारा 370 पर बोलते हुए अखिलेश ने सुनाई ‘बैंगन’ वाली कहानी, मांगा PoK पर जवाब

लोकसभा में धारा 370 पर बोलते हुए अखिलेश ने सुनाई ‘बैंगन’ वाली कहानी, मांगा PoK पर जवाब

राज्यसभा से पारित होने के बाद मंगलवार को लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल को लेकर चर्चा हो रही है। बहस के दौरान समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने इस फैसले को गलत बताते हुए केंद्र सरकार पर जमकर बरसे। अखिलेश ने कहा कि आज कश्मीर में बल का प्रयोग किया जा रहा है और इस फैसले से कश्मीर की जनता खुश नहीं है।

लोकसभा में अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि आज माहौल ऐसा हो गया है कि मेरे पड़ोसी सदन में ही मौजूद नहीं हैं। गृह मंत्री कह रहे हैं कि हमने इस प्रस्ताव को विधानसभा से पास कराया है। अखिलेश की इस बात पर अमित शाह ने उन्हें बीच में टोकते हुए कहा कि राष्ट्रपति ने अपनी शक्ति का इस्तेमाल करते हुए राज्यपाल को ही विधानसभा की ताकत दी है।


कश्मीर पर अफरीदी ने किया ट्वीट तो गंभीर बोले- चिंता मत करो बेटा, हम PoK को भी निपटा लेंगे

सपा सुप्रीमो ने कहा कि दो दिन पहले जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल कह रहे थे कि उन्हें कुछ नहीं पता है, लेकिन पिछले 48 घंटे में आपने जो किया वो पूरे देश ने देखा है। आप जश्न मना रहे हैं, लेकिन जिस प्रदेश के लिए फैसला लिया गया है वहां के लोगों का क्या?

 अखिलेश ने सुनाया ‘बैंगन’ वाला किस्सा

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पर बोलते हुए अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  ने एक किस्सा भी सुनाया। अखिलेश ने कहा कि बादशाह ने एक बार दावत में कहा कि बैंगन की सब्जी अच्छी है तो उनके मंत्रियों ने भी सब्जी की तारीफ कर दी और बादशाह के साथी बीरबल ने भी ऐसा ही किया। लेकिन अगले ही दिन जब बादशाह की तबीयत खराब हुई तो उन्होंने बीरबल के सामने बैंगन की सब्जी की बुराई की।


अखिलेश (Akhilesh Yadav) ने बताया कि इसके बाद बीरबल ने भी ऐसा ही किया, जब बादशाह ने सवाल किया तो बीरबल ने कह दिया कि वह बैंगन की नौकरी नहीं करते हैं, बल्कि बादशाह की नौकरी करते हैं।  राजा साहब आप अच्छा कह रहे है तो मैं भी बैगन को अच्छा कह रहा था। जो बादशाह कहेगा, वही मैं कहूंगा।अंत में अखिलेश यादव  (Akhilesh Yadav) ने इसे जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल से जोड़ते हुए कहा कि उन्होंने भी ऐसा ही किया है।

लोकसभा में बोले अमित शाह- जम्मू एवं कश्मीर के लिए हम जान दे देंगे

सपा प्रमुख ने बताया कि मैं जिस आर्मी स्कूल से पढ़ा हूं वहां के कई साथी घाटी में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए हैं। मेरे साथी मेजर गोपिंदर सिंह राठौड़ को भी हमने खोया है। उन्होंने कहा कि आप लोग कहते हो कि सत्तर साल में कुछ नहीं हुआ है तो क्या आप अपने 11 साल नहीं गिनते हैं।

बता दें, अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने सरकार से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) पर भी जवाब मांगा और पूछा कि गृह मंत्री इस बात का भरोसा दें कि PoK हमारा ही हिस्सा है। साथ ही उन्होंने कहा कि गृहमंत्री ये भी बताएं कि कश्मीर जैसी खुशी नगालैंड-मिजोरम-सिक्किम में कब मिलेगी।

LoC को क्यों कहा जाता है नियंत्रण रेखा, क्या है पाक अधिकृत कश्मीर

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)