झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली ‘शिफ्ट’ हुई बीजेपी-कांग्रेस की राजनीति

झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली 'शिफ्ट' हुई बीजेपी-कांग्रेस की राजनीति

रांची। झारखंड के चुनावी दंगल की तिथि नजदीक आने के साथ ही सभी दलों में उम्मीदवारों के चयन को लेकर बैठकों का सिलसिला शुरू हो गया है। सभी दल अपने ‘जिताऊ योद्धाओं’ को चुनावी दंगल में उतारने के लिए गहन विचार-विमर्श में जुटे हैं। इसे लेकर चुनावी दंगल में उतरने वाले राष्ट्रीय दलों की राजनीति तो पूरी तरह राज्य की राजधानी को छोड़कर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शिफ्ट हो गई है।

झारखंड की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हो या कांग्रेस दोनों दलों के बड़े नेता दिल्ली पहुंच गए हैं। कहा जा रहा है कि इन दोनों दलों के प्रत्याशियों के नाम पर अंतिम मुहर दिल्ली में ही लगेगी। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव, वरिष्ठ नेता आलमगीर आलम, पूर्व सांसद सुबोध कांत सहाय सहित कई बड़े नेता तो दिल्ली में पहले ही जमे थे, गुरुवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास सहित भाजपा के करीब सभी बड़े नेता दिल्ली रवाना हो गए।


भाजपा झारखंड चुनाव प्रभारी ने गुरुवार को दिल्ली जाने के क्रम में रांची हवाई अड्डे पर पत्रकारों से कहा कि राज्य के नेता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष ज़े पी़ नड्डा के साथ बैठक में भाग लेंगे।

भाजपा के एक नेता ने बताया कि मुख्यमंत्री रघुवर दास, संगठन मंत्री धर्मपाल, प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ सहित कई सांसद गुरुवार को दिल्ली रवाना हुए हैं। उन्होंने बताया कि बुधवार रात दिल्ली से सभी नेताओं का बुलावा आया था।

सूत्रों का कहना है कि आठ नवंबर को केंद्रीय चुनाव समिति के साथ प्रदेश के शीर्ष नेताओं की बैठक होगी। बैठकों से निकले निष्कर्ष पर यदि सहमति नहीं बनीं तो आठ नवंबर को ही पार्टी के संसदीय बोर्ड के स्तर से प्रत्याशियों पर मुहर लगा दी जाएगी।


सूत्रों का कहना है कि भाजपा की सहयोगी पार्टी ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन (आजसू) के अध्यक्ष सुदेश महतो भी दिल्ली रवाना होने वाले हैं। बुधवार को रांची में प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा की अध्यक्षता में प्रदेश चुनाव समिति की बैठक हुई थी, जिसमें 81 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों पर चर्चा हुई।

प्रशासनिक अधिकारी से लेकर झारखंड की राजनीति में बड़ा चेहरा बनने तक, कुछ ऐसा रहा सुखदेव भगत का सफर

इधर, कांग्रेस के भी झारखंड के सभी नेता बुधवार से ही दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं। कांग्रेस के प्रवक्ता किशोर शाहदेव ने आईएएनएस को बताया कि बुधवार को विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हुई। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव, विधायक दल के नेता आलगीर आलम शामिल हुए हैं।

कांग्रेस के सूत्रों के मुताबिक बैठक में पहले दो चरण की सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा जरूर की गई परंतु झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के साथ सीटों की स्थिति तय नहीं होने के कारण स्क्रीनिंग कमेटी अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है।

सूत्रों का दावा है कि इस सप्ताह होने वाली केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में उम्मीदवारों के नाम पर मुहर लगा दी जाएगी।


झारखंड: प्रतिष्ठा की सीट बनी पाकुड़, कांग्रेस की मजबूत दावेदारी के बीच पूर्व MLA अकील अख्तर के बागी तेवर

झारखंड में भी सीट बंटवारे पर राजग में पेंच, लोजपा ने 6 सीटें मांगी

झारखंड चुनाव: आजसू के ‘डबल डिजिट’ से भंवर में भाजपा!

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)