झारखंड: अपने ही मंत्री को हराने की बात करते भाजपा नेताओं का ऑडियो क्लिप वायरल

झारखंड: अपने ही मंत्री को हराने की बात करते भाजपा नेताओं का ऑडियो क्लिप वायरल

एक तरफ झारखंड में जल्द ही विधानसभा के चुनाव होने हैं वहीं एक वायरल ऑडियो क्लिप से भाजपा की परेशानी बढ़ सकती है। दरअसल  चंदनकियारी के विधायक और राज्य के भू-राजस्व मंत्री अमर कुमार बाउरी (Amar Kumar Bauri) को पार्टी में ही भितरघात का सामना करना पड़ सकता है। अगर बोकारो और चंदनकियारी में वायरल एक ऑडियो क्लिप को सही मानें तो तो मंत्री के लिए यह परेशानी बढ़ाने वाला साबित हो सकता है।

वायरल ऑडियो क्लिप को भाजपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य नारायण साव और भाजपा नेता शिवराम शेखर के बीच हुई बातचीत का हिस्सा बताया जा रहा है। वहीं शिवराम शेखर ने इस बातचीत की बात को स्वीकार भी कर लिया है। शेखर ने कहा कि यह क्लिप उन्होंने एक मीडियाकर्मी को दिया था, जिसे वायरल कर दिया गया। वहीं दूसरे नेता नारायण साव ने ऑडियो टेप में अपनी आवाज होने से इंकार किया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग उन्हें फंसाने की साजिश कर रहे हैं। वहीं इस मामले पर अभी तक मंत्री की प्रतिक्रिया नहीं आई है।


कथित ऑडियो में एक ओर की आवाज को नारायण साव का बताया जा रहा है, जिसमें कहा गया है कि इस बार अमर बाउरी के खिलाफ काम करना है। बातचीत के दौरान शिकायत की गई है कि पांच साल के कार्यकाल में बाउरी ने उनकी एक बात नहीं सुनी और उन्हें तथा उनके लोगों को कोई फायदा नहीं होने दिया। आगे की बातचीत कुछ इस प्रकार है।

दूसरी ओर की आवाज वाले व्यक्ति (जिन्हें शिवराम बताया जा रहा है) : जमशेदपुर में एक काम लिये हैं। गाड़ी-घोड़ा का इंतजाम हो जाएगा?

नारायण साव : कार्यकर्ता दवा के बिना मर रहा है और मंत्री के नजदीकी लोग सर्किट हाउस और रांची में आनंद उठा रहे हैं। इसकी पूरी व्यवस्था मंत्री द्वारा की जा रही है। खैर तीन माह जो करना है कर ले। इसके बाद क्या होगा बताते हैं। खून खौल रहा है। एक साल से बैठा हुआ हूं। अफसर लोग मेरी बात नहीं सुन रहे हैं। हमारा 10 से 15 लाख रुपया फंसा हुआ है। दो चार बार बोला हूं, लेकिन कोई काम नहीं हुआ। अफसर के सामने मेरा कोई वैल्यू ही नहीं रह गया है।


शिवराम : हां
नारायण साव : इससे अच्छा उमाकांत रजक को जिता देंगे। उसके पास न जाएंगे न काम लेंगे। भाजपा के नाम पर कुछ नहीं कर पा रहे हैं। विरोधी भी बढ़ रहे हैं।

शिवराम : हमारे काम का क्या होगा?
नारायण साव: समझ लो काम नहीं होगा। तीन माह इंतजार करो। पैसा डूब जाएगा। इन लोगों की क्या औकात है। 10 रुपये का आदमी है। अनुपम और कृपा की कोई औकात नहीं है।

शिवराम: 10-5 रुपये की बात नहीं है। उतना पैसा कहां से लाएंगे?
नारायण साव : मेरा स्टाइल देखो। या तो काम मैं करूंगा, नहीं तो दो लाख रुपये लूंगा। मेरा स्टाइल सबसे ठीक है।

शिवराम: मेरे लिए बात कीजिए ।
नारायण साव: मेरा प्रेशर बढ़ रहा है। तीन माह इंतजार करो, देखते हैं…।


झारखंड: हादसे का शिकार होने से बची मधुपुर- आनंद विहार हमसफर एक्सप्रेस, बोगी छोड़ आगे बढ़ा इंजन

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)