झारखंड: विवादों में रहे IPS अनुराग गुप्ता निलंबित, चुनाव में भाजपा के लिए काम करने का लगा था आरोप

झारखंड: विवादों में रहे IPS अनुराग गुप्ता निलंबित, चुनाव में भाजपा के लिए काम करने का लगा था आरोप

विवादों में रहे झारखंड कैडर के 1990 बैच के आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता निलंबित कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अनुराग गुप्ता को सस्पेंड करने पर अपनी मंजूरी दे दी है। अनुराग गुप्ता पर वर्ष 2016 में हुए राज्यसभा चुनाव के दौरान गड़बड़ी करने का आरोप लगा था। उन पर भाजपा के लिए काम करने का आरोप है।

मरांडी ने गड़बड़ी की शिकायत की थी

यह मामला राज्यसभा चुनाव 2016 का है जब झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने चुनाव में कथित गड़बड़ी की शिकायत को लेकर 2017 में एक सीडी जारी की थी। सीडी में भाजपा प्रत्याशी को वोट देने के लिए पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और एडीजी अनुराग गुप्ता के बीच बातचीत का जिक्र था। इसके बाद आयोग के प्रधान सचिव वीरेंद्र कुमार ने रांची आकर जांच की थी। फिर तत्कालीन मुख्य सचिव को लिखे पत्र में अनुराग गुप्ता के खिलाफ केस दर्ज करने को कहा था। जांच के बाद 13 जून 2017 को निर्वाचन आयोग ने अनुराग गुप्ता के खिलाफ एफआईआर और विभागीय कार्यवाही चलाने का निर्देश दिया था।


मरांडी ने कहा था कि कांग्रेस विधायक निर्मला देवी को वोट देने से रोकने के लिए उनके पति और पूर्व मंत्री योगेंद्र साव को एडीजी अनुराग गुप्ता ने दो दिन में 26 बार फोन कर लालच और धमकियां दीं। सीडी में एक जगह योगेंद्र साव से गुप्ता कहते हैं कि अभी तीन-चार साल रघुवर सरकार रहेगी, आपको बहुत ऊंचाई तक ले जाएंगे, बात मानने पर दिक्कत होगी।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)