Kalank Movie Review: इश्क़ के दर्द और अधूरेपन को बयान करती है ‘कलंक’

Kalank Movie Review: इश्क़ के दर्द और अधूरेपन को बयान करती है 'कलंक'

17 अप्रैल को बड़े परदे पर रिलीज़ हो चुकी करण जौहर की फिल्म ‘कलंक’ दर्शकों द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है। मल्टी स्टारर इस फिल्म की स्टोरी के साथ – साथ कलाकारों के काम को भी काफी पसंद किया जा रहा है।

फॉक्स स्टार स्टूडियोज के बैनर तले करण जौहर और साजिद नाडियावाला की फिल्म ‘कलंक’ एक बहुप्रतिक्षित आगामी पीरियड-ड्रामा है, जिसका निर्देशन अभिषेक वर्मन ने किया है।

फिल्म में दिखाई गयी प्रेम कहानी 1940 के समय पर आधारित है। फिल्म में दिखाए गए रॉयल सेट्स और कलाकारों का रॉयल लुक दर्शकों को काफी पसंद आ रहा है। फिल्म के गाने पहले ही दर्शकों की जुबां पर छाये हुए हैं और फिल्म का टाइटल ट्रैक ‘कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया’ फिल्म की कहानी को बहुत अच्छे से बयान करता है।


फिल्म की कहानी

फिल्म स्वतंत्रता से पहले एक परिवार पर आधारित है। प्रेम और परिवार की इस कहानी में हर एक किरदार अपने दिल में कोई राज़ लिए हुए है। फिल्म रूप (आलिया भट्ट) और ज़फर (वरुण धवन) से शुरू होती है, जो कि एक दूसरे से प्यार करते हैं लेकिन अलग- अलग धर्म से होने के कारण दोनों मिल नहीं पाते। इसके बाद रूप की शादी देव (आदित्य रॉय कपूर) से हो जाती है। देव पहले से ही शादीशुदा होता है। देव की पत्नी की पत्नी सत्या (सोनाक्षी सिन्हा) सब कुछ जानते हुए भी चुप रहती है। देव से रूप की शादी देव, रूप और ज़फर के बीच लव ट्राइएंगल का कारण बन जाती है।

कलंक का पहला गाना 'घर मोरे परदेसिया' रिलीज़, आलिया भट्ट के डांस ने जीता दिल


आगे चल के फिल्म की कहानी इसी के इर्द- गिर्द  घूमती है कि क्या रूप और ज़फर मिल पाएंगे? क्या सत्या और उसके पति के बीच की दूरी ख़त्म होगी? माधुरी दीक्षित और संजय दत्त का फिल्म में क्या रोल है? ये सब जानने के लिए फिल्म देखें।

फिल्म की कास्ट

माधुरी दीक्षित, आलिया भट्ट, सोनाक्षी सिन्हा, संजय दत्त, आदित्य रॉय कपूर और वरुण धवन लीड रोल में हैं। इसके साथ किआरा आडवाणी, कृति सेनन और कुणाल खेमू भी फिल्म में नज़र आ रहे हैं।

रिश्तों में प्यार और फरेब की दास्तां है ‘कलंक', देखें टीजर

फिल्म के गाने

टाइटल ट्रैक ‘कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया’ एक सूफी सॉन्ग है ।इसके साथ डांस आइटम भी है जो की दर्शकों को काफी पसंद आ रहें हैं। ‘फर्स्ट क्लास’ ‘घर मोहे परदेसिया’ आदि गाने पहले ही हिट हो चुके हैं।

सिनेमेटोग्राफी एंड फ्रेम डिजाइनिंग

कलंक की सिनेमेटोग्राफी और फ्रेम डिजाइनिंग काफी अच्छी है। टेक्निकल तौर पर भी फिल्म का काम काफी अच्छा है।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)