हिंदी पर हंगामा: कमल हासन बोले- कोई ‘शाह’ नहीं तोड़ सकता वादा, फिर होगा भाषा के लिए आंदोलन

हिंदी पर हंगामा: कमल हासन बोले- कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता वादा, फिर होगा भाषा के लिए आंदोलन

हिंंदी दिवस तो बीत गया लेकिन हिंदी पर विवाद अभी भी जारी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा हिंदी दिवस पर देश की राष्ट्र भाषा पर दिए गए बयान पर राजनीतिक विवाद थमा नहीं है। इस बार विरोध की आवाज दक्षिण भारत से आई है। साउथ के सुपरस्टार और राजनेता कमल हासन ने इस मसले पर ट्वीट किया है। हासन ने एक वीडियो ट्वीट कर कहा है कि देश में एक भाषा को थोपा नहीं जा सकता है, अगर ऐसा होता है तो इसपर बड़ा आंदोलन होगा।

वीडियो में कमल हासन अशोक स्तंभ और संविधान की प्रस्तावना के बगल में खड़े हैं। उन्होंने कहा कि भारत 1950 में लोगों से एक वादा करने के साथ गणतंत्र बन गया कि उनकी भाषा और संस्कृति की रक्षा की जाएगी।


उन्होंने कहा कि कोई भी शाह, सुल्तान या सम्राट अचानक उस वादे को नहीं तोड़ सकते। हम सभी भाषाओं का सम्मान करते हैं लेकिन हमारी मातृ भाषा हमेशा तमिल रहेगी। इसमें उन्होंने कहा कि इस बार एक बार फिर भाषा के लिए आंदोलन होगा और यह जल्लीकट्टू आंदोलन से भी बड़ा होगा।

गौरतलब है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी दिवस के मौके पर कहा था कि हिंदी हमारी राजभाषा है, हमारे यहां कई भाषाएं बोली जाती हैं। लेकिन एक ऐसी भाषा होनी चाहिए जो दुनिया में देश का नाम बुलंद करे और पहचान को आगे बढ़ाए और हिंदी में ये सभी खूबियां हैं।इसके बाद दक्षिण भारत के राजनीतिक दल इसके विरोध में उतर आए हैं।


सरकार 2024 के चुनाव तक हिंदी को नई ऊंचाई प्रदान करेगी : शाह

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)