कानपुर: सिविल डिफेंस और एस-10 सदस्यों की गुंडई, कोरोना संदिग्ध बताकर मानसिक दिव्यांग को बेरहमी से पीटा

  • Follow Newsd Hindi On  
कानपुर: सिविल डिफेंस और एस-10 सदस्यों की गुंडई, कोरोना संदिग्ध बताकर मानसिक दिव्यांग को बेरहमी से पीटा

कोरोना वायरस (Coronavirus) जैसी महामारी से आज पूरा देश मिलकर लड़ रहा है। सरकार के अलावा कई संस्थाएं और लोग आसपास के गरीब और बेसहारा लोगों की मदद कर रहे हैं। लेकिन इस बीच कुछ नासमझ लोग इस मुश्किल समय में भी असहायों के साथ दुर्व्यवहार करते नजर आ रहे हैं। ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर से सामने आया है। यहाँ पॉवर की हनक दिखाते हुए कुछ लोगों ने मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति को बांध कर उसकी बेरहमी से पिटाई कर दी।

रिपोर्ट के मुताबिक, चकेरी के जाजमऊ स्थित आदर्श नगर में मंगलवार को एक विक्षिप्त कुछ घरों में घुसने का प्रयास कर रहा था। तभी इलाके के लोगों ने पुलिस को कोरोना संदिग्ध होने की सूचना दे दी। मौके पर पुलिस के साथ एस-10 (स्पेशल पुलिस ऑफिसर) के सदस्य भी पहुंचे। एस-10 के सदस्यों ने बुजुर्ग को रस्सी से बांधकर बेरहमी से पीटा। ये लोग इस बुजुर्ग को घसीटते हुए गलियों से रोड तक ले आए। कुछ देर बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मानसिक रूप से बीमार शख्‍स को लोडर मे लाद कर जाजमऊ चौकी ले गई।


इस दौरान वहां खड़े किसी शख्स ने इसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया और वायरल कर दिया। वीडियो के वायरल होते ही पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया। अब, पुलिस के आला अधिका‍रियों ने इस मामले में जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कही है। बुजुर्ग की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस जांच में जुटी है।

सीओ कैंट आरके चतुर्वेदी ने बताया कि वीडियो आदर्श नगर इलाके का है। उन्होंने बताया कि वीडियो में दिख रहा बुजुर्ग आदर्श नगर के आसपास के इलाके के घरों में घुसने का प्रयास कर रहा था। वह आसपास थूकते हुए जा रहा था। जिसके बाद लोगों ने उसे कोरोना संदिग्ध समझकर पीट दिया। सीओ ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।


यूपी पुलिस ने सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले कथित पत्रकार को डाला जेल में

कोरोना का कहर: योगी सरकार का बड़ा फैसला, नोएडा और लखनऊ समेत यूपी के 15 जिले पूरी तरह सील


(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)