कर्नाटक: करंट लगने से 5 छात्रों की मौत, झंडा फहराने के लिए लगाए गए पोल को हटाते वक्‍त हुआ हादसा

कर्नाटक: स्टूडेंट हॉस्टल में करंट लगने से 5 छात्रों की मौत, झंडा फहराने के लिए लगाए गए पोल को हटाते वक्‍त हुआ हादसा

कोप्पल (कर्नाटक)। कर्नाटक के कोप्पल शहर में एक आवासीय विद्यालय के भवन की छत पर हुए हादसे में 14 से 16 साल उम्र के पांच छात्रों की मौत हो गई। पुलिस ने रविवार को इस बात की जानकारी दी। कोप्पल की पुलिस अधीक्षक रेणुका सुकुमार ने आईएएनएस को फोन पर बताया, “यह दुखद घटना तब घटी, जब लड़के छत पर स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) को राष्ट्रध्वज फहराने के लिए इस्तेमाल किए गए मिट्टी से भरे ड्रम पर लगे 15 फुट के लोहे के ध्वज स्तम्भ को हटा रहे थे।”

उन्होंने कहा, “जिस स्तम्भ को वे पकड़े हुए थे, वह हॉस्टल की बिल्डिंग के ऊपर लगे बिजली के तार के संपर्क में आ गया और 11 किलोवोल्ट (केवी) की लाइव वायर के करंट से उनकी मौत हो गई।”


दक्षिणी राज्य के पिछड़े इलाके में स्थित कोप्पल बेंगलुरू से 350 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में है।

विद्यार्थियों की पहचान मल्लिकार्जुन, बसवराज, देवराज, गणेश और कुमार के रूप में हुई है।

सुकुमार ने कहा, “भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 304ए के तहत राज्य सरकार द्वारा संचालित बीसीएम देवराज अर्स किंग आवासीय विद्यालय के हॉस्टल वार्डन, इमारत की एक मंजिल के मालिक और राज्य संचालित बिजली प्रदाता (गेसकॉम) के एक अधिकारी के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज किया गया है।”


बेंगलुरू में मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने विद्यार्थियों की मौत पर दुख प्रकट किया और इस मामले की जांच के आदेश दे दिए। इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने जिला उपायुक्त को प्रत्येक पीड़ित परिवार के सदस्यों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया है।

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)