कश्मीर पर भारत का कदम संविधान के दायरे में : रूस

कश्मीर पर भारत का कदम संविधान के दायरे में : रूस

मॉस्को/नई दिल्ली | रूस ने कश्मीर पर भारत के कदम का समर्थन किया है और कहा है कि इसे लेकर किए गए बदलाव भारतीय संविधान के ढांचे के तहत हैं। रूस ने साथ ही भारत और पाकिस्तान से शांति बनाए रखने का भी आग्रह किया है।

शुक्रवार को एक प्रेस ब्रीफिंग में एक सवाल के जवाब में रूस के विदेश मंत्री ने कहा कि मॉस्को उम्मीद करता है कि ‘भारत और पाकिस्तान नई दिल्ली द्वारा जम्मू एवं कश्मीर के दर्जे में किए गए बदलाव के कारण क्षेत्र में स्थिति को जटिल नहीं होने देंगे।’


रूस ने कहा कि ‘जम्मू एवं कश्मीर के दर्जे में बदलाव और उसका दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजन भारतीय गणतंत्र के संविधान के ढांचे के तहत किया गया है।’

रूस भारत और पाकिस्तान के रिश्ते सामान्य रखने का हमेशा से समर्थन करता रहा है।

विदेश मंत्रालय ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि दोनों देशों के बीच जो भी मतभेद हैं वे 1972 के शिमला समझौते और 1999 के लाहौर घोषणापत्र के प्रावधानों के अनुरूप राजनीतिक और कूटनीतिक तरीके से द्विपक्षीय आधार पर सुलझाए जाएंगे।”



अफगानिस्तान से संबंधित नहीं कश्मीर मुद्दा : तालिबान

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)