उत्तर प्रदेश में आज फिर से लागू हुआ लॉकडाउन, खुले रहेंगे सभी धार्मिक स्थल और कारखाने

  • Follow Newsd Hindi On  
बिहार में 16 अगस्त तक बढ़ा लॉकडाउन, जानें क्या खुला रहेगा और क्या बंद

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश में बीती रात 10 बजे से लॉकडाउन एक बार फिर से लागू कर दिया गया है। ये लॉकडाउन 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा। इस दौरान जरूरी सेवाओं को छोड़कर अन्य सभी गतिविधियों पर प्रतिबंध रहेगी।

इस संबंध में मुख्य सचिव आरके तिवारी ने आदेश जारी कर दिए हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh Government) ने कहा है कि 55 घंटे के प्रतिबंध के दौरान सभी धार्मिक स्थल (Religious place) खुले रहेंगे। उन पर किसी भी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं होगा।


दूसरी ओर शहर व ग्रामीण क्षेत्र के सभी औद्योगिक कारखाने भी खुले रहेंगे। इनमें सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन करना होगा। साथ ही कोरोना हेल्प डेस्क स्थापित करनी होगी। मुख्य सचिव आरके तिवारी ने शुक्रवार को इस संबंध में संशोधित शासनादेश जारी किया।

पहचान पत्र ही माना जाएगा ड्यूटी पास

अगर लॉकडाउन के दौरान आप अपने ऑफिस पहुंच रहे है तो आप आराम से जा सकते है। जरूरी सेवाओं से जुड़े अधिकारियों-कर्मचारियों का पहचान पत्र ही ड्यूटी पास माना जाएगा। उनकी आ‌वाजाही पर कोई रोक नहीं होगी और न ही आपको इसके लिए किसी से इजाजत लेनी पड़ेगी।

जरूरी सेवाएं रहेगी जारी

लॉकडाउन की अवधि में सभी जरूरी सेवाएं जैसे चिकित्सा और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति पहले की तरह ही खुली रहेगी। इन सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों, कोरोना वारियर, स्वच्छता कर्मियों व डोर टू डोर सप्लाई से जुड़े व्यक्तियों के आने-जाने पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है।


जारी रहेगा रेलवे का आवागमन

रेलवे का आवागमन पहले की तरह ही जारी रहेगा। ट्रेनों से आने वाले व्यक्तियों के लिए बसों की व्यवस्था उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम करेगा। सभी अंतरराष्ट्रीय व घरेलू हवाई सेवाएं यथावत जारी रहेंगी। हवाई अड्डों पर आने वाले यात्रियों के लिए आवागमन पर किसी तरह की कोई रोक-टोक नहीं है।

डीएम-एसपी करेंगे गश्त

हर जिले में मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारी संयुक्त गश्त करेंगे। इसके साथ ही पेट्रोलिंग व्यवस्था को कड़ाई से लागू कराया जाएगा। कोरोना के संक्रमण की समीक्षा के लिए जिलों में तैनात नोडल अधिकारी पूर्व निर्धारित दायित्वों के साथ-साथ इन नए दिशा-निर्देशों के तहत भी समीक्षा करते हुए काम करेंगे।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)