‘बाघ के गले में NCP की घड़ी और पंजे में BJP का कमल’ शिवसेना सांसद संजय राउत के इस कार्टून का मतलब क्या है?

'बाघ के गले में NCP की घड़ी और पंजे में BJP का कमल' शिवसेना सांसद संजय राउत के इस कार्टून का मतलब क्या है?

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भले ही भाजपा-शिवसेना गठबंधन बहुमत के आंकड़े को पार कर गया हो, लेकिन पिछले विधानसभा के मुकाबले इन्हें इस बार नुकसान ही झेलना पड़ा है। वहीं नतीजों के बाद शिवसेना के सुर भी बदले-बदले नजर आ रहे हैं। चुनाव के बाद दोनों पार्टियों में 50-50 फॉर्मूले को लेकर मंथन चल रहा है और इसी के बीच शिवसेना के संजय राउत ने शुक्रवार सुबह एक कार्टून शेयर किया है। कार्टून मे एक बाघ है जिसके हाथ में कमल का फूल दिख रहा है। खास बात यह है कि बाघ के गले में एक घड़ी है।

संजय राउत ने ट्विटर पर इस कार्टून को शेयर करते हुए कैप्शन लिखा है, “शानदार व्यंग्य वाला चित्र, बुरा न मानो दिवाली है।”



संजय राउत के कार्टून के मायने

कार्टून के माध्यम से शिवसेना ने खुद की स्थिति को प्रोजेक्ट किया है। शिवसेना खुद बाघ है और उसके गले में NCP का चुनाव चिन्ह घड़ी टांगा है, साथ ही बाघ के एक हाथ में भाजपा का चुनाव चिन्ह कमल है। यानी इस कार्टून के जरिए शिवसेना सीधा संदेश देना चाहती है कि शिवसेना के पास राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) का समर्थन है और उसके हाथ में कमल का फूल है। यानी अगर भाजपा से बात ना बनी तो NCP का साथ भी उनके पास है।

महाराष्ट्र में कुल 288 सीटें हैं और बहुमत के लिए 145 का आंकड़ा चाहिए। अभी भाजपा और शिवसेना के पास बहुमत है, लेकिन अगर शिवसेना और एनसीपी भी साथ आई तो क्या कुछ संभावनाएं हैं?

बहुमत के लिए जरूरी आंकड़ा- 145

  • शिवसेना+भाजपा (105+56)=161
  • शिवसेना+NCP (56+54)= 110
  • भाजपा+ NCP (105+54)= 159
  • कांग्रेस+NCP (44+54)= 98
  • कांग्रेस+NCP+शिवसेना (44+54+56)= 154

सामना मे भाजपा पर निशाना

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में भी लेख के जरिए निशाना साधा है। सामना में लिखा गया है कि जो नतीजे आए हैं, वह महाजनादेश नहीं है। दरअसल, देवेंद्र फडणवीस की यात्रा का नाम भी महाजनादेश यात्रा था। लेकिन नतीजे बिल्कुल भी वैसे नहीं आए, जो भाजपा का दावा था।

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)