महानदी में बाढ़ की आशंका, ओडिशा के 11 जिलों में हाई अलर्ट

भुवनेश्वर, 14 अगस्त (आईएएनएस)| महानदी नदी में बाढ़ आने की आशंका के बीच एहतियात के तौर पर जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं। ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) बिष्णुपद सेठी ने बुधवार को 11 जिलों के कलेक्टरों को बाढ़ से निपटने के लिए आवश्यक तैयारी करने को कहा।

महानदी के निचले क्षेत्रों में भारी वर्षा के कारण गुरुवार को सुबह छह बजे से 10 बजे के बीच कटक के मुंडाली में लगभग 11.5 लाख क्यूसेक पानी के छोड़े जाने की संभावना है।


सेठी ने बोलनगीर, बौध, सुबरनपुर, नयागढ़, खोरधा, कटक, अंगुल, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा और जाजपुर कलेक्टरों को आवश्यक कदम उठाने को कहा।

ऊपरी जलग्रहण क्षेत्रों पर भारी बारिश के बाद बुधवार को संबलपुर में हीराकुद बांध का एक गेट भी खोला गया है।

एसआरसी ने कहा, “महानदी और उसकी सहायक नदियों में मध्यम बाढ़ आने की आशंका है।”


उन्होंने बताया कि बचाव और निकासी अभियानों के लिए संभावित प्रभावित जिलों में 12 ओडीआरएफ और तीन एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा संबंधित जिलों में अग्निशमन दल तैनात किए जाएंगे।

कलेक्टरों को निर्देश दिया गया है कि वे विभिन्न विभागों के जिला आपातकालीन संचालन केंद्रों और नियंत्रण कक्षों को तुरंत सक्रिय करें।

हीराकुंड बांध के अधिकारियों ने बुधवार को इस बारिश के मौसम में जलाशय से पहली बार पानी छोड़ा।

हीराकुंड बांध का पानी बुधवार सुबह 11 बजे एक गेट से छोड़ा गया।

जल संसाधन सचिव पी. के. जेना ने कहा, “एक मध्यम स्तर की बाढ़ की स्थिति को ध्यान में रखते हुए हम पहले से तय पानी को नहीं छोड़ेंगे। एक गेट कुछ घंटों के लिए खोला जाएगा, जिसके बाद इसे बंद कर दिया जाएगा।”

उन्होंने कहा, “स्थिति को ध्यान में रखते हुए इसे धीमा रखने का लक्ष्य है। हम बाढ़ के पानी को छोड़ने के लिए कुछ और दिन इंतजार करेंगे। हम इस संबंध में पूरी गणना करके ही आगे का निर्णय लेंगे।”

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)