महाराजगंज में सीएम योगी ने आईटीवी फाउंडेशन के निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का उद्घाटन किया

महाराजगंज (उत्तर प्रदेश), 19 अगस्त (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को महाराजगंज में जापानी इन्सेफेलाइटिस के खिलाफ आईटीवी फाउंडेशन की ओर से आयोजित दो दिवसीय (18 से 19 अगस्त) स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का उद्घाटन किया। इस शिविर को रेकिट बेंकिजर इंडिया के समर्थन से आयोजित किया गया है। कार्यक्रम के बीच आईटीवी फाउंडेशन और रेकिट बेंकिजर इंडिया ने हेल्थ मिशन में 15 करोड़ रुपए खर्च करने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री योगी और आईटीवी फाउंडेशन के संस्थापक कार्तिकेय शर्मा ने जरूरतमंद लोगों को हेल्थ किट्स बांटीं। योगी ने स्वास्थ्य शिविर में उपस्थित सभी इन्सेफेलाइटिस मरीजों और उनके परिजनों से बातचीत भी की।

महाराजगंज के छेहरी स्थित आईटीएम कॉलेज में आयोजित स्वास्थ्य शिविर के उद्घाटन समारोह में योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ जिला अधिकारी अमर नाथ उपाध्याय, केएमसी डिजिटल अस्पताल के प्रेसिडेंट विनय श्रीवास्तव, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष डॉ. आर.पी. त्रिपाठी और रेकिट बेंकिजर इंडिया विदेश और भागीदारी निदेशक रवि भटनागर उपस्थित रहे।


स्वास्थ्य शिविर के दौरान रेकिट बेंकिजर इंडिया ने ‘डेटोल बनाएगा स्वास्थ इंडिया’ की फ्लैगशिप के तहत आशा कार्यकर्ताओं की सहयता से एक प्रोग्राम की शुरुआत की जो उत्तर प्रदेश और बिहार के शहरों में डायरिया जैसी बीमारियों से बचाव को लेकर जागरुकता फैलाकर लोगों की आदतों में बदलाव लाने की कोशिश करेगा। इसके तहत लगतभग ढाई लाख आशा कार्यकर्ता अलग-अलग इलाकों में जाकर बच्चों और उनके परिवारों से मुलाकात करेंगी और उन्हें स्वच्छता और खुद के रख-रखाव को लेकर जागरुक करेंगीं।

शिविर के उद्घाटन के बाद योगी आदित्यनाथ ने आईटीवी फाउंडेशन मुहिम कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि जापानी इन्सेफेलाइटिस की वजह से पिछले चालीस सालों में हजारों बच्चों की मौत हो चुकी है।

उन्होंने कहा, “पिछली सरकारें इसे रोकने में पूरी तरह विफल रहीं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार ने इस बीमारी को रोकने के लिए उपाय और एहतियाती कदम उठाने के लिए एक आंतरिक समिति बनाई है। इसके तहत इन्सेफेलाइटिस रोगियों के लिए मुफ्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी नसिर्ंग स्टाफ, सहयोगी और आशा कार्यकतार्ओं विशेष ट्रेनिंग दी है।”


कार्तिकेय शर्मा ने कहा, “हमारा मिशन बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करना और दूरदराज के क्षेत्रों में लोगों के बीच स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में जागरूकता पैदा करना है। जापानी इन्सेफेलाइटिस एक घातक रोग है और यह शिविर बीमारी को खत्म करने और एहतियाती उपाय करने के लिए महत्वपूर्ण है। साथ ही हमारा लक्ष्य देश के लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए भविष्य में कई ऐसे निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण लगाने का है।”

रेकिट बेंकिजर इंडिया विदेश और भागीदारी निदेशक रवि भटनागर ने कहा, “सामाजिक बदलाव में स्वास्थ्य का काफी ज्यादा महत्व होता है और खासकर किशोरों के विकास और सशक्तिकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।”

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)