महाराष्ट्र गतिरोध : पवार ने सोनिया से मुलाकात की, संशय बरकरार

नई दिल्ली, 4 नवंबर (आईएएनएस)| शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बीच जारी गतिरोध के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ यहां सोमवार को चार घंटे तक बैठक की।

बैठक के बाद पवार ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “राकांपा-कांग्रेस को विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला हुआ है। हमारे पास संख्या भी नहीं है।” इस दौरान पवार के अगल-बगल अजित पवार और प्रफुल्ल पटेल भी थे।


उन्होंने कहा, “जिनके पास संख्या है, उन्हीं को सरकार बनानी चाहिए।”

पवार ने कहा कि वह मुख्यमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं और वह मंगलवार को मुंबई में पार्टी सहयोगियों के साथ बैठक करेंगे और उसके बाद सोनिया गांधी से एक बार फिर मुलाकात करेंगे।

पवार ने कहा कि सोनिया गांधी के साथ बैठक के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता ए.के. एंटनी भी मौजूद थे।


पवार ने भाजपा-सेना के बीच जारी राजनीतिक द्वंद्व पर कहा कि दोनों के बीच गंभीर समस्या है और यह सिर्फ दिखावा नहीं है।

राकांपा प्रमुख ने शिवसेना नेतृत्व से किसी प्रकार के प्रस्ताव और सेना सांसद संजय राउत के साथ किसी चर्चा से इंकार किया। उन्होंने कहा, “इस मुद्दे पर कोई भी बैठक सिर्फ शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ होगी।”

महाराष्ट्र के अधिकांश शीर्ष नेताओं ने राज्य के राजनीतिक हालात के बारे में सोनिया गांधी से चर्चा की है।

हुसैन दलवई जैसे कुछ कांग्रेस नेता जहां सरकार बनाने के लिए सेना को समर्थन देने की खुलेआम वकालत कर रहे हैं, वहीं संजय निरूपम जैसे लोग सावधानी बरतने की बात कह रहे हैं।

भाजपा-सेना के बीच कायम गतिरोध के बीच सेना ने 288 सदस्यीय विधानसभा में 175 विधायकों के समर्थन का दावा किया है।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like