मुनाफावसूली के कारण 3 महीने के ऊंचे स्तर से फिसला चना वायदा

नई दिल्ली, 3 अप्रैल (आईएएनएस)| चना वायदे में आई जोरदार तेजी के बाद मुनाफावसूली हावी होने से बुधवार को एक फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई। एनसीडीएक्स पर चने का भाव तीन महीने की ऊंचाई से फिसला है। हाजिर बाजार में भी चने की मांग कमजोर रहने से कीमतों में गिरावट आई।

बाजार विश्लेषकों ने बताया कि ऊंचे भाव पर मांग कमजोर रहने और मुनाफावसूली के कारण चने के दाम में गिरावट दर्ज की गई।


नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीएक्स) पर चने का अप्रैल डिलिवरी अनुबंध बुधवार को पिछले सत्र के मुकाबले 53 रुपये यानी 1.17 फीसदी की गिरावट के साथ 4,460 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। इससे पहले चने का भाव 4,544 रुपये प्रति क्विं टल के ऊंचे स्तर तक उछला, जोकि 31 दिसंबर 2018 के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है। 31 दिसंबर 2018 को चने का भाव एनसीडीएक्स पर 4,575 रुपये प्रतिक्विंटल तक उछला था। दिनभर के कारोबार के दौरान भाव फिसलकर 4,457 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गया।

बाजार विश्लेषकों का कहना है कि सरकार द्वारा मटर आयात का सालाना कोटा तय किए जाने के कारण चने के भाव में तेजी आई थी, लेकिन अब ऊपरी भाव पर मांग कमजोर है इसलिए कीमतों में नरमी आई है।

उन्होंने बताया कि वायदे में आई नरमी से हाजिर बाजार में भी कीमतों में गिरावट दर्ज की गई। शुरुआती कारोबार में हाजिर भाव में स्थिरता बनी रही, लेकिन वायदे से संकेत मिलने पर हाजिर बाजार में भी चने में मंदा कारोबार रहा। दिल्ली की लॉरेंस रोड मंडी में राजस्थान लाइन चने का भाव पिछले सत्र के मुकाबले 25-50 रुपये की कमजोरी के साथ 4,425-4,450 रुपये प्रति क्विंटल और मध्यप्रदेश लाइन चना 50 रुपये की कमजोरी के साथ 4,375-4,400 रुपये प्रति क्विंटल पर बंद हुआ।


सूत्रों के अनुसार, दिल्ली में बुधवार को चने की आवक 35 ट्रक के करीब रही।

केंद्र सरकार ने मटर आयात की सीमा वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 1.5 लाख टन तय कर दी है। विश्लेषक बताते हैं कि मटर की आपूर्ति कम होने से इसकी कीमतों में तेजी रहने की संभावनाओं से पिछले सत्रों में चने में तेजी आई क्योंकि अब मटर की जगह चने की खपत बढ़ जाएगी। हालांकि आगे चने की घरेलू आवक बढ़ने से कीमतों पर आगे भी दबाव आ सकता है।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)