नेशनल अवार्ड मुझे कड़ी मेहनत करने के लिए करेगा प्रोत्साहित : शाश्वत

नई दिल्ली, 18 अगस्त (आईएएनएस)| ‘उरी : द सर्जिकल स्ट्राइक’ में बेस्ट बैकग्राउंड म्यूजिक के लिए इस साल नेशनल अवार्ड पाने वाले संगीतकार शाश्वत सचदेव का कहना है कि ऐसे प्रतिष्ठित सम्मान से उन्हें भविष्य की परियोजनाओं में और अधिक मेहनत करने का प्रोत्साहन मिलेगा।

शाश्वत ने आईएएनएस से कहा, “यह जीत मेरे लिए बहुत मायने रखती है। मैं इस पुरस्कार को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहता। मेरे पास प्रोजेक्ट्स का कोई इतिहास नहीं है। मैंने बॉलीवुड में केवल कुछ ही फिल्में की हैं, इसलिए मेरे करियर की शुरुआती चरण में राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त करना मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। यह मुझे कड़ी मेहनत करने के लिए और अधिक प्रोत्साहन देगा और मैं अपने दायरे से बाहर निकलने की कोशिश करूंगा।”


29 साल की उम्र में ही यह अवार्ड पाने को लेकर शाश्वत को यह अहसास हो गया है कि उंचाईयों को छूने के लिए उम्र बाधा नहीं बनती है।

उन्होंने आगे कहा, “यदि आपका काम अच्छा है, तो यह निश्चित रूप से आपकी उम्र, लिंग और अन्य चीजों के दायरे को तोड़ कर आगे बढ़ेगा। मुझे आशा है कि मैं अब अपनी उम्र के लोगों, युवाओं को अपने काम में विश्वास करने और अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपने बेहतर प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करने में सक्षम हूं।”

शाश्वत ने 2017 में अनुष्का शर्मा-स्टारर फिल्म ‘फिल्लौरी’ से बॉलीवुड में संगीतकार के रूप में शुरुआत की थी। उन्होंने पिछले साल ‘वीरे दी वेडिंग’ में भी काम किया।


हालांकि आदित्य धर की ‘उरी : द सर्जिकर स्ट्राईक’ ने उन्हें स्पॉटलाइट में लाकर खड़ा किया। उनकी देशभक्ति बैकग्राउंड म्यूजिक को राष्ट्रीय सम्मान के योग्य माना गया है। शाश्वत ने इस फिल्म में काफी मेहनत भी की थी।

अपने काम की प्रक्रिया के बारे में बात करते हुए शाश्वत ने बताया, “फिल्म की धुनों का पता चलने के बाद, मैं एक मॉड्यूलर सिंथेसाइजर खरीदने के लिए बर्लिन गया, क्योंकि यह भारत में उपलब्ध नहीं है। आतंकी हमलों से संबंधित सेना की आवाज और आवाज बनाने के लिए, मुझे उस साधन की आवश्यकता थी। मैंने सात-आठ महीने तक साधन पर काम किया। फिर हम बैकग्राउंड म्यूजिक रिकॉर्ड करने के लिए विएना गए।”

शाश्वत ने बताया, “करीब 150 लोग फिल्म के लिए संगीत बनाने में शामिल थे, इसलिए यह सिर्फ मेरा योगदान नहीं है। सभी ने बेहतरीन संगीत बनाने में मेरी मदद की। मैं इस पुरस्कार को अपनी पूरी टीम को समर्पित करना चाहता हूं।”

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)