पैलेडियम फिर नई उंचाई पर, टूटा सोने का गुरूर

नई दिल्ली, 16 सितम्बर (आईएएनएस)| पिछले कुछ महीनों से सोने की चमक के सामने फीकी पड़ी धातु पैलेलिडयम ने इस महीने जबरदस्त चाल पकड़ी है और पीली धातु का गुरूर तोड़ते हुए यह सोमवार को फिर एक नई उंचाई पर पहुंच गई। सोने के मुकाबले पैलेडियम का भाव पिछले कुछ दिनों से 100 डॉलर प्रति औंस से ऊपर चल रहा है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बीते एक महीने में पैलेडियम के भाव में 12 फीसदी से अधिक की तेजी आई है, जबकि सोने के दाम में एक फीसदी से ज्यादा की नरमी रही है। कमोडिटी बाजार विशेषज्ञ बताते हैं कि पैलेडियम की मांग में वृद्धि और आपूर्ति कमजोर रहने के कारण इसकी कीमतों में जोरदार तेजी आई है, जिससे इसने एक बार फिर सोने से सबसे महंगी धातु का ताज छीन लिया है। हालांकि सोने में भी तेजी का रुख बना हुआ है, लेकिन विशेषज्ञ बताते हैं कि आने वाले दिनों ऑटो सेक्टर में पैलेडियम और प्लैटिनम की मांग बढ़ने से इनमें आगे भी तेजी बनी रह सकती है।

प्लैटिनम को पैलेडियम की चचेरी बहन कहा जाता है, क्योंकि इन दोनों धातुओं के रासायनिक गुणों के कारण ऑटोमोबाइल में प्रदूषण नियंत्रक डिवाइस में इन दोनों का उपयोग होता है। इसलिए, एक की कीमत बढ़ने पर दूसरे की कीमतों में भी तेजी देखी जा रही है।


अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोमवार को पैलेडियम के दिसंबर एक्सपायरी अनुबंध में 1,619.50 डॉलर प्रति औंस तक का उछाल आया, जोकि अब तक का रिकॉर्ड स्तर है। इस प्रकार पिछले एक महीने में पैलेडियम का भाव 185.50 डॉलर प्रति औंस यानी 12.11 फीसदी तेज हुआ है। वहीं, प्लैटिनम के अक्टूबर वायदे में 0.49 फीसदी की तेजी के साथ 956.90 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था।

कॉमेक्स पर सोने के दिसंबर डिलीवरी वायदा अनुबंध में 10.75 डॉलर यानी 0.72 फीसदी तेजी के साथ 1,510.25 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले भाव 1,519.65 डॉलर प्रति औंस तक उछला। इस महीने चार सितंबर को सोने का भाव 1,566.20 डॉलर प्रति औंस तक उछला था।

वहीं, चांदी के दिसंबर अनुबंध में 1.81 फीसदी की तेजी के साथ 17.88 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था।


केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि चीन में प्रदूषण के सख्त नियमों का पालन होने से कार विनिर्माताओं ने नए प्रदूषण नियंत्रक डिवाइस लगाना शुरू कर दिया है, जिससे पैलेडियम की मांग आने वाले दिनों में बढ़ने की संभावना बनी हुई है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा दक्षिण अफ्रीका में प्लैटिनम के खदान में काम करने वाले लोगों के वेतन को लेकर वहां की यूनियन और खनन कंपनी के बीच पिछले कुछ समय से गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। मजदूरों के हड़ताल पर जाने से आपूर्ति प्रभावित होने की संभावना बनी हुई है, लिहाजा पैलेडियम और प्लैटिनम दोनों में तेजी का रुख बना हुआ है।

 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)