जम्मू-कश्मीर: अब्दुल्ला-मुफ़्ती को झटका, भाजपा में शामिल होंगे पीडीपी, एनसी के डेढ़ दर्जन नेता

जम्मू-कश्मीर: अब्दुल्ला-मुफ़्ती को झटका, भाजपा में शामिल होंगे पीडीपी, एनसी के डेढ़ दर्जन नेता

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में नेशनल कांफ्रेंस(एनसी) और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के लगभग डेढ़ दर्जन नेता मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण करेंगे। इन नेताओं को पार्टी में शामिल करने के लिए भाजपा उपाध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी अविनाश राय खन्ना तीन दिवसीय दौरे पर मंगलवार को जम्मू-कश्मीर जा रहे हैं। खन्ना ने आईएएनएस से इस पूरे कार्यक्रम की पुष्टि की है।

सूत्रों के अनुसार, अनुच्छेद 370 हटने के बाद से घाटी में अपने शीर्ष नेताओं की चली आ रही एहतियातन नजरबंदी के चलते आगे की राह कठिन देख एनसी और पीडीपी के कुछ नेताओं को अब भाजपा में भविष्य दिख रहा है। केंद्र सरकार के स्तर से विकास के लिए पंचायतों के खाते में सीधे भारी धनराशि भेजी जा रही है। ऐसे में घाटी में दूसरे दलों के सरपंच भाजपा के जरिए अपनी सियासी जमीन को और मजबूत करना चाहते हैं। ऐसे नेता दलबदल कर भाजपा में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं। इसमें से डेढ़ दर्जन नेता मंगलवार को भाजपा में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना की मौजूदगी में शामिल होंगे। कुछ और नेता बुधवार और गुरुवार को भी पार्टी में शामिल हो सकते हैं।


अविनाश राय खन्ना 15, 16 और 17 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर में रहकर बीडीसी चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करेंगे, साथ ही अनुच्छेद 370 हटने के बाद घाटी के माहौल का सियासी जायजा लेने के साथ संगठन विस्तार को लेकर कुछ बैठकें भी करेंगे।

खन्ना ने आईएएनएस को बताया कि वह मंगलवार को जम्मू-कश्मीर के तीन दिवसीय दौरे पर जा रहे हैं। हालांकि इस दौरे का मुख्य मकसद बीडीसी चुनाव के मद्देनजर संगठन की तैयारियों की समीक्षा करना है। उन्होंने बताया कि दूसरे दलों के सरपंच स्तर के नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद पहली बार ब्लॉक डेवलेपमेंट काउंसिल (बीडीसी) का चुनाव 24 अक्टूबर को होने जा रहा है। जम्मू-कश्मीर के कुल 316 ब्लॉक में से 280 सीटों पर भाजपा ने प्रत्याशी खड़े किए हैं। वहीं अन्य सीटों पर दूसरे दलों से बगावत कर चुनाव मैदान में निर्दलीय उतरने वाले उम्मीदवारों का भाजपा ने समर्थन करने का फैसला किया है। इस चुनाव का कांग्रेस ने बहिष्कार कर रखा है। बीडीसी चुनाव में पंच और सरपंच वोट करते हैं।



जम्मू-कश्मीर में बीडीसी के चुनाव 24 अक्टूबर को

‘जम्मू-कश्मीर में भाजपा का पहला मुख्यमंत्री जल्द’

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)