‘प्रधान न्यायाधीश पर हमला न्यायपालिका को अस्थिर करने की कोशिश’

 नई दिल्ली, 8 मई (आईएएनएस)| प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के समर्थन में आए सर्वोच्च न्यचायालय के कर्मचारियों ने बुधवार को कहा कि उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप शीर्ष न्यायपालिका पर हमला है और यह न्यायपालिका को अस्थिर करने की कोशिश है।

 सर्वोच्च न्यायालय के सदस्य मध्याह्न भोजनावकाश के दौरान एकत्र हुए और उन्होंने प्रधान न्यायाधीश के साथ अपनी एकजुटता जाहिर करते हुए शीर्ष अदालत प्रशासन की कार्यप्रणाली की पारदर्शिता व निष्ठा को रेखांकित किया।


अधिकांश कर्मचारियों ने कहा कि उन पर लोगों का दबाव है और वे मीडिया रिपोर्ट में चर्चा में आए आरोप को लेकर सवाल करते हैं।

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like