प्रदूषण पर आरोप-प्रत्यारोप छोड़ एकसाथ बैठने की जरूरत : केजरीवाल

 नई दिल्ली, 3 नवंबर (आईएएनएस)| राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक(एक्यूआई) एक हजार के खतरनाक स्तर तक पहुंच गया।

 दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसपर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वह इस मुद्दे पर आरोप-प्रत्यारोप और राजनीति का खेल नहीं खेलना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार को चाहिए की एकसाथ बैठें और इस मुद्दे को समाधान निकालें। राष्ट्रीय राजधानी और आसपास के इलाकों में पसरे घने धुंध पर चिंता व्यक्त करते हुए आम आदमी पार्टी (आप) के नेता ने रविवार को एक शॉर्ट वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया। उन्होंने इसमें कहा कि अगर दिल्ली में वायु प्रदूषण बढ़ा है, तो इसका कारण पड़ोसी राज्यों द्वारा पराली जलाया जाना है।


केजरीवाल ने कहा कि पराली जलाए जाने के कारण केवल 20 दिनों में प्रदूषण की मात्रा हवा में बढ़ी है।

उन्होंने वीडियो में दिल्ली के आसमान की साफ तस्वीर भी दिखाई। उन्होंने कहा कि इस साल फरवरी से लेकर 10 अक्टूबर तक दिल्ली में प्रदूषण का स्तर ठीक था, वायु गुणवत्ता अच्छी थी और आसमान में रात के समय तारे दिखाई देते थे।

8.39 मिनट के वीडियो में केजरीवाल ने कहा, “पिछले 20 दिनों में ऐसा क्या हो गया, जिसके कारण प्रदूषण बढ़ा? ऐसा नहीं हुआ है कि दिल्ली के करोड़ों लोगों ने कार ले ली है या 10 लाख इंडस्ट्री यहां आ गई हैं। पराली जलाए जाने के चलते ऐसा हुआ है।”


(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like