प्रियंका रेड्डी मर्डर: पुलिस ने सुलझाई महिला डॉक्टर की हत्या की गुत्थी, लॉरी ड्राइवर समेत चार गिरफ्तार

प्रियंका रेड्डी मर्डर: पुलिस ने सुलझाई महिला डॉक्टर की हत्या की गुत्थी, लॉरी ड्राइवर समेत चार गिरफ्तार

Priyanka Reddy Murder Case : हैदराबाद (Hyderabad) की साइबराबाद पुलिस (Cyberabad Police) ने महिला डॉक्टर प्रियंका रेड्डी की मर्डर की गुत्थी सुलझा ली है। पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, प्रियंका रेड्डी (Priyanka Reddy) के बलात्कार और हत्या के आरोप में पुलिस ने एक लॉरी चालक, क्लीनर और दो अन्य लोगों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। हिरासत में लिए गए सभी आरोपियों की उम्र 20-25 साल बताई जा रही है। पुलिस ने 24 घंटे के भीतर ये केस सुलझा लिया है।

पुलिस के मुताबिक, यह एक पूर्व नियोजित बलात्कार और हत्या का मामला है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने पीड़िता पर नजर रखी हुई थी। टोंडुपल्ली टोल प्लाजा के पास पार्क की हुई प्रियंका की स्कूटी के टायर को जानबूझकर पंचर किया गया था और वह अनजाने में आरोपियों के चंगुल में फंस गई थी।


सीसीटीवी फुटेज बरामद

बता दें, साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वी सी सज्जनर के नेतृत्व में शम्साबाद डीसीपी एन प्रकाश रेड्डी ने इस मामले को सुलझाने के लिए 15 विशेष टीमों का गठन किया था। पुलिस की टीम ने टोल गेट के अलावा हैदराबाद-बेंगलुरु राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच लगे सीसीटीवी कैमरों से फुटेज जुटाए थे। एक वीडियो में प्रियंका अकेले टोल गेट की ओर जाती हुई दिखाई देती है। दूसरे में वह एक अज्ञात व्यक्ति से बात करती दिखती है।

प्रियंका रेड्डी (Priyanka Reddy) का गैंगरेप कर गला दबाया

साइबराबाद पुलिस ने टोल प्लाजा के पास पीड़िता के अंतर्वस्त्र, जूते और शराब की बोतल भी बरामद की थी। प्रियंका रेड्डी (Priyanka Reddy) ने अपनी स्कूटी यहीं खड़ी की थी। रिपोर्ट के मुताबिक, प्रियंका को नशे में धुत्त इन चार लोगों ने जबरन उठा लिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट्स के अनुसार, शम्साबाद में आउटर रिंग रोड पर टोंडुपल्ली टोल प्लाजा के पीछे खाली जमीन में उन्होंने प्रियंका के साथ सामूहिक बलात्कार किया और फिर गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।

इसके बाद उन्होंने एक लॉरी में उसके शव और स्कूटी को उठाकर ले गए थे। उन्होंने लाइसेंस प्लेटों को हटा दिया और वाहनों को घटनास्थल से 40 किलोमीटर की दूरी पर छोड़ दिया। उन्हें पता था कि रंगा रेड्डी जिले के शादनगर शहर के पास चटानपल्ली पुल एक सुनसान जगह है। वहां पहुंचकर उन्होंने प्रियंका की डेड बॉडी को एक चादर में लपेटा और मिट्टी का तेल डालकर उसे जला दिया। इसके बाद चारों लोग वहां से भाग निकले। पुलिस का मानना ​​है कि महबूब नगर जिले के नारायणपेट का रहने वाला मोहम्मद पाशा नामक एक लॉरी चालक इस मामले में मुख्य संदिग्ध था।


क्या है पूरा मामला

पेशे से पशु चिकित्सक डॉक्टर प्रियंका बुधवार की शाम पशु चिकित्सालय से ड्यूटी के बाद वापस अपने घर लौट रही थीं। रात के समय उन्होंने अपनी बहन भावना रेड्डी को की गई आखिरी फोन कॉल में टोल प्लाजा के पास स्कूटी पंक्चर हो जाने की जानकारी दी और यह कहा कि डर लग रहा है। काफी देर बाद तक प्रियंका के घर न पहुंचने और फोन स्वीच ऑफ जाने पर परिजनों ने टोल प्लाजा के पास भी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिलीं। अगले दिन गुरुवार को हैदराबाद से बेंगलुरु को जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर अंडरपास के समीप डॉक्टर प्रियंका का जला शव मिला था।

मामले को लेकर लोगों में काफी आक्रोश है। डॉक्टर प्रियंका (Priyanka Reddy) को न्याय दिलाने के लिए स्थानीय नागरिक सड़कों पर उतर आए। गुरुवार को न्याय की मांग को लेकर स्थानीय नागरिकों ने कैंडल मार्च निकाला और दोषियों की जल्द गिरफ्तारी और कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की मांग की। सोशल मीड‍िया पर भी यह मामला ट्रेंड हो रहा है।


हैदराबाद: ड्यूटी से लौट रही लेडी डॉक्टर की स्कूटी रास्ते में हुई खराब, सुबह मिली जली हुई बॉडी

(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)