पूरे देश में बांस क्लस्टर बनाने की तैयारी, जम्मू-कश्मीर से होगी शुरूआत

  • Follow Newsd Hindi On  

नई दिल्ली, 9 अक्टूबर(आईएएनएस)। पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय की ओर से पूरे देश में बांस क्लस्टर स्थापित करने की तैयारी है। जम्मू-कश्मीर से इसकी शुरूआत होगी। मंत्रालय की उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि जम्मू, कटरा और सांबा क्षेत्रों में बांस की टोकरी, अगरबत्ती और बांस चारकोल बनाने के लिए तीन बांस क्लस्टर विकसित किए जाएंगे, जिसके माध्यम से लगभग 25,000 लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे। इस संबंध में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर अपने अंतिम चरण में है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बांस के तहत आने वाले लगभग 35 प्रतिशत क्षेत्र पूर्वोत्तर राज्यों में हैं। लेकिन भारतीय वन अधिनियम, 1927 के अंतर्गत बांस की आवाजाही के प्रतिबंधों के कारण पूर्वोत्तर क्षेत्र की इस बांस क्षमता का पूर्ण उपयोग नहीं किया जा रहा है।


मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार की ओर से बांस उद्योग को बढ़ावा देने के लिए जिस संवेदनशीलता के साथ महत्व प्रदान किया गया है, वह इस बात से स्पष्ट है कि उसके द्वारा पुराने भारतीय वन अधिनियम में संशोधन किया गया है, जिसके माध्यम से घर में उगाए जाने वाले बांस को वन अधिनियम के दायरे से बाहर रखा जा सके और बांस के द्वारा आजीविका के अवसरों को बढ़ावा दिया जा सके।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि एक अन्य बड़ा सुधार बांस की छड़ियों पर आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत किया गया है। इस फैसले के माध्यम से भारत में अगरबत्ती की लगातार बढ़ती हुई मांग को पूरा करने के लिए नई अगरबत्ती छड़ उत्पादन इकाईयों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त हुआ है। सितंबर 2019 के बाद से कच्ची बत्ती का आयात नहीं किया गया है और इसमें स्थानीय बांस उत्पाद का उपयोग किया जा रहा है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में बांस के विशाल भंडार मौजूद हैं, जो कि अभी तक अज्ञात हैं और जिनका अबतक प्रभावी रूप से उपयोग नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर जम्मू-कश्मीर के नवनिर्मित केंद्र शासित प्रदेश में सभी मंत्रालयों को अच्छी प्रथाओं को अपनाने के लिए की गई पहलों के अंतर्गत, पूर्वोत्तर परिषद, डीओएनईआर मंत्रालय द्वारा बेंत और बांस प्रौद्योगिकी केंद्र (सीबीटीसी) के माध्यम से इस वर्ष जनवरी में कार्यशाला सह-प्रदर्शनी के रूप में जम्मू-कश्मीर में बांस उद्योग के क्षेत्र में तकनीकी जानकारी और अनुभव को प्राप्त किया गया। इसे कोविड-19 की समाप्ति के बाद पूरे देश में आयोजित किया जाएगा।


–आईएएनएस

एनएनएम/एएनएम

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)