जयपाल रेड्डी: इमरजेंसी के विरोध में पार्टी छोड़कर इंदिरा गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाला कांग्रेसी नेता

जयपाल रेड्डी: इमरजेंसी के विरोध में पार्टी छोड़कर इंदिरा गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाला कांग्रेसी नेता

हैदराबाद। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एस. जयपाल रेड्डी का रविवार तड़के यहां निधन हो गया। उनके परिवार ने यह जानकारी दी। रेड्डी (77) ने हैदराबाद में एक निजी अस्पताल में रात लगभग 1.30 बजे अंतिम सांस ली। निमोनिया से पीड़ित होने के बाद उन्हें हाल ही में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके परिवार में एक बेटी और दो बेटे हैं।

रेड्डी का जन्म तेलंगाना के महबूबनगर में हुआ था और वे पांच बार लोकसभा में निर्वाचित हुए थे तथा दो बार राज्यसभा सदस्य भी बन चुके थे।


उन्होंने उस्मानिया यूनिवर्सिटी के छात्र होने के दौरान से ही अपना राजनीतिक जीवन शुरू कर दिया। आपातकाल लगाए जाने के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी और जनता पार्टी में शामिल हो गए और बाद में उसके महासचिव भी बन गए। उन्होंने 1980 में मेडक लोकसभा सीट पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा, हालांकि वे हार गए।

भारत के पांचवे राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद, जिन्होंने इंदिरा गांधी के कहने पर किए थे इमरजेंसी के दस्तावेज पर साइन

रेड्डी इंद्र कुमार गुजराल की सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहे। वे संप्रग-1 और संप्रग-2 सरकारों में भी मंत्री रहे और नगर विकास एवं संस्कृति, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा भू विज्ञान मंत्रालय संभाले।


तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने रेड्डी के निधन पर शोक जताया है। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) प्रमुख ने उनके परिजनों को सांत्वना देते हुए अपने संदेश में मंत्री पद पर रहते हुए रेड्डी के कामों को याद किया। उन्होंने कहा रेड्डी एक अच्छे सांसद थे।

आपातकाल का दौर और कार्टूनिस्ट अबू अब्राहम की कलम, जिसने इंदिरा पर बोला तीखा हमला 

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)