राम मंदिर निर्माण के लिए सभी मिलकर काम करें : भागवत

 नई दिल्ली, 9 नवंबर (आईएएनएस)| अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने स्वागत करते हुए शनिवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सभी को मिलकर काम करना चाहिए।

यहां मीडिया से ऐतिहासिक निर्णय पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने यह बात कही। अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को फैसला सुनाते हुए केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि वह राम मंदिर निर्माण के लिए तीन महीने में ट्रस्ट बनाए।


सात दशक पुराने जमीन विवाद पर पांच जजों द्वारा सर्वसम्मति से लिए गए फैसल में शीर्ष अदालत ने मामले में एक पक्षकार रहे सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक तौर पर मस्जिद निर्माण के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन देने का भी आदेश दिया है।

भागवत ने आगे कहा कि यह सरकार पर है कि वह शीर्ष न्यायालय के आदेश अनुसार मस्जिद निर्माण के लिए अलग से पांच एकड़ जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक तौर पर कहा प्रदान करती है।

उन्होंने कहा, “निर्णय को हार और जीत की दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। सत्य और न्याय के मंथन से प्राप्त निष्कर्ष को भारत वर्ष के संपूर्ण समाज की एकात्मता और बंधुता के परिपोषण करने वाले निर्णय के रूप में देखना व उपयोग में लाना चाहिए। सभी देशवासियों से अनुरोध है कि विधि और संविधान की मर्यादा में रहकर संयमित व सात्विक रीति से अपने आनंद को व्यक्त करें।”


उन्होंने कहा, “विवाद को खत्म करने की दिशा में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के अनुरूप सरकार की ओर से जल्दी पहल होगी, ऐसा हमें विश्वास है।”

संघ प्रमुख ने कहा, “अतीत की सभी बातों को भुलाकर हम सभी को चाहिए कि हम श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण के लिए मिल-जुलकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह करें।”

(इस खबर को न्यूज्ड टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
(आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फ़ॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.)

You May Like